Rajasthan News: मयखानों की बोली में बरसा धन, जाम छलकाएगा सरकारी खजाना

जाम के छलकने से सरकार का खजाना भरने की उम्मीद है. पहले चरण में प्रदेश में 1279 शराब की दुकानों की ऑनलाइन नीलामी हुई.

Rajasthan News: मयखानों की बोली में बरसा धन, जाम छलकाएगा सरकारी खजाना
प्रतीकात्मक तस्वीर.

Jaipur: जाम के छलकने से सरकार का खजाना भरने की उम्मीद है. पहले चरण में प्रदेश में 1279 शराब की दुकानों की ऑनलाइन नीलामी हुई. जिससे 2237 करोड रुपए आबकारी विभाग के खजाने में आएंगे. नई आबकारी नीति (New excise policy) के तहत शराब दुकानों (Wine Shop) की इस बार ऑनलाइन नीलामी की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है. दिलचस्प बात यह है कि ऑनलाइन दुकानों की नीलामी में जबरदस्त रिस्पांस देखने को मिल रहा है. इससे आबकारी विभाग के अधिकारियों भी खुश है. हालांकि महंगी दुकानों (liquor shops in Rajasthan) के लिए आवेदन करने से शराब कारोबारी थोड़ा हिचकिचा रहे हैं. 

यह भी पढ़ें- आज ही के दिन Rajasthan में आया था Covid का पहला केस, जानें तब से कितने बदले हालात

आबकारी विभाग के ऑनलाइन शराब नीलामी में पहले दिन जबरदस्त धन वर्षा हुई. 1279 दुकानों की नीलामी (e auction) से 2237 करोड़ रुपए का राजस्व सरकार को मिलेगा. जबकि सरकार ने इन सभी दुकानों का रिजर्व प्राइज 1724 करोड़ रुपए रखा था. इसमें सबसे महंगी दुकान चूरू जिले (Churu) के सुजानगढ़ में बिकी, जिसके लिए अधिकतम 11.60 करोड़ रुपए बोली लगी. यही नहीं निंबाहेड़ा और जयपुर (Jaipur News) में तो दो दुकानें ऐसी रही, जिन्हें लेने के लिए बोलीदाताओं में जबरदस्त प्रतिस्पर्धा रही. जयपुर की एक दुकान के लिए 22 घंटे, जबकि निंबाहेड़ा की एक दुकान के लिए 25 घंटे तक नीलामी चली.

आबकारी विभाग (Excise Department) से मिली रिपोर्ट के मुताबिक निंबाहेड़ा में रेलवे फाटक के पास सिंधी कॉलोनी की दुकान संख्या एक के लिए सबसे लंबी बोली चली. इस दुकान के लिए बिडरों ने 120 बार से ज्यादा बार बोली लगाई. दुकान बेचने के लिए न्यूनतम रिजर्व प्राइज एक करोड़ 82 लाख 35 हजार रुपए रखी थी, जिसकी अंतिम बोली 2 करोड़ 5 लाख 35 हजार लगी. वहीं राज्य की सबसे महंगी दुकान की बात करें तो वह डूंगरपुर जिले के खजूरी क्षेत्र की है, जिसके लिए विभाग ने न्यूनतम रिजर्व प्राइज 18 करोड़ 99 लाख 33 हजार रुपए रखी थी, लेकिन इस दुकान के लिए एक भी खरीददार नीलामी में नहीं आया. ये दुकान गुजरात बोर्डर के से करीब 4-5 किलोमीटर दूरी पर पड़ती है, जिसके कारण वहां सबसे अधिक बिक्री होती है.

राजस्थान सरकार की आय के बड़े स्त्रोतों में से एक शराब की दुकानों के आवंटन के लिए नीलामी में कुछ दुकानों पर जबरदस्त कॉम्पिटिशन (प्रतिस्पर्धा) देखने को मिला. पहले चरण में 1669 दुकानों को बोली के लिए रखा गया था. इसमें सबसे महंगी दुकान चूरू जिले की सुजानगढ़ कस्बे के वार्ड 21-22 की दुकान की रही. यह दुकान 11 करोड़ 60 लाख 86 हजार 680 रुपए की बोली पर छूटी. इस दुकान के लिए आबकारी विभाग ने रिजर्व प्राइज (न्यूनतम बोली मूल्य) 10.17 करोड़ रुपए रखी थी. इसी तरह दूसरी महंगाी दुकान हनुमानगढ़ जिले में दुकान संख्या 3 रही. यह दुकान 11 करोड़ रुपए से ऊपर नीलाम हुई, जबकि इसकी रिजर्व प्राइज 10.54 करोड़ थी. इसी तरह तीसरे नंबर पर भी सुजानगढ़ की ही एक अन्य दुकान 10 करोड़ 10.95 करोड़ रुपए में बिकी.

बहरहाल, आबकारी विभाग को उम्मीद है कि नई आबकारी नीति में उनके लक्ष्य के मुताबिक राजस्व अर्जित होगा. साथ में पारदर्शिता भी पूरी तरीके से रहेगी. लेकिन महंगी दुकाने के लिए आवेदन नहीं आना विभाग की चिंता बढ़ाये हुए हैं.

यह भी पढ़ें- Rajasthan: थाने पर मिलेगी स्वास्थ्य जांच की सुविधा, हैल्थ चेकअप अभियान की होगी शुरुआत