close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: छात्राओं के बीच पहुंचे संभागीय आयुक्त कैलाश चंद वर्मा, पूछा सवाल

पनी जनमुखी छवि के राज्य में चर्चित रहे वर्मा ने 1 घंटे तक 12 वीं की छात्राओं की सवाल जवाब किया और टॉफियां भी बांटी.

जयपुर: छात्राओं के बीच पहुंचे संभागीय आयुक्त कैलाश चंद वर्मा, पूछा सवाल
जयपुर के गांधी नगर स्थित बालिका सीनियर स्कूल में छात्राओं के बीच संभागीय आयुक्त कैलाश चंद वर्मा.

ललित कुमार, जयपुर: राजधानी जयपुर के गांधी नगर स्थित बालिका सीनियर स्कूल के लिए शुक्रवार का दिन कुछ खास रहा. औचक निरीक्षण के लिए जयपुर के संभागीय आयुक्त कैलाश चंद वर्मा छात्राओं के बीच पहुंचे हुए थे. अपनी जनमुखी छवि के राज्य में चर्चित रहे वर्मा ने 1 घंटे तक 12 वीं की छात्राओं की क्लास भी ली. इस दौरान वर्मा ने स्कूल की छात्राओं से सवाल भी किया. उनके सवालों का सही जवाब देने वाली छात्राओं को उन्होंने टॉफियां भी बांटी. 

जयपुर शहर के गांधी नगर स्थित विधालय में वर्मा शुक्रवार सुबह 10 बजे स्कूल खुलने के साथ ही पहुंचे हुए थे. दो दिन पहले ही संभागीय आयुक्त का पद संभालने वाले केसी वर्मा की गाड़ी को देखकर छात्राएं चौंक गई. इस दौरान उन्होंने स्कूल का औचक निरीक्षण भी किया. 

वहीं, छात्राओं की क्लास लेने के दौरान सही जवाब देने पर उन्होंने टॉफियां भी दी. जबकि गलत जवाब पर सीख के साथ टॉफियां छात्राओं को मिली. संभागीय आयुक्त केसी वर्मा ने छात्राओं की इस क्लास को 10 में से 7 अंक भी दिए.

अंग्रेजी, संस्कृत से बचती, तो हिंदी में हाजिर जवाब दिखी छात्राएं
 
केसी वर्मा ने स्कूल पहुंचने के साथ ही सभी छात्राओं का परिचय लिया. इसके साथ ही संभागीय आयुक्त की क्लास शुरू हुई. भारत के पड़ौसी राज्यों के बारे में सवाल करने पर जहां छात्राएं अटकी रही. वहीं, हिंदी से अंग्रेजी और अंग्रेजी से हिंदी अनुवाद के छात्राओं ने काफी सहभागिता रही. इस दौरान ज्यादातर छात्राओं ने संस्कृत के सवालों का जवाब देने से बचने का प्रयास किया. वहीं, संभागीय आयुक्त के द्वारा पूछे गए हिंदी के सवालों पर आगे बढ़कर जवाब देती हुई दिखी. हर सही सवाब पर संभागीय आयुक्त की ओर से बच्चियों को टॉफियां दी गई. 

इस दौरान संभागीय आयुक्त कैलाश चंद वर्मा ने मीडिया से बातचीत में कहा कि छात्राओं की शिक्षा को लेकर प्रदेश में बहुत काम किए जा रहे हैं. इस तरह के औचक निरीक्षण से जहां स्कूलों के ढांचे में सुधार होता है. वहीं बच्चों में भी आत्मविश्वास बढ़ता है.