close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: रेनवाल में अपराध पर लगाम के लिए CCTV कैमरा लगाने का था प्रस्ताव, कार्य अधूरा

अपराधियों की पहचान के लिए पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ती है. वहीं चार वर्ष पहले विधायक कोटे से लगाए गए सीसीटीवी कैमरे पहले से ही नाकारा साबित हो चुके हैं.

जयपुर: रेनवाल में अपराध पर लगाम के लिए CCTV कैमरा लगाने का था प्रस्ताव, कार्य अधूरा
प्रतीकात्मक तस्वीर

जयपुर: जिले के रेनवाल कस्बे में अपराध पर लगाम और अपराधियों की पहचान के लिए कस्बे में 50 स्थानों पर सीसीटीवी केमरे लगाने का नगरपालिका का प्रस्ताव ठंडे बस्ते में पड़ता हुआ नजर आ रहा है. एक वर्ष पहले नगरपालिका की 26 मई, 2018 को पालिका की बोर्ड बैठक में कस्बे में 50 महत्वपूर्ण स्थानों पर अच्छी क्वालिटी के सीसीटीवी कैमरे लगाने का प्रस्ताव सर्वसम्मति से लिया गया था लेकिन एक वर्ष के करीब होने के बावजूद इस पर कोई भी अमल नहीं किया गया. 

जिस कारण अपराध की घटना पर अपराधियों की पहचान के लिए पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ती है. वहीं चार वर्ष पहले विधायक कोटे से लगाए गए सीसीटीवी कैमरे पहले से ही नाकारा साबित हो चुके हैं. नतीजा आए दिन अपराधियों की पहचान के लिए पुलिस को दुकान-दुकान सीसीटीवी कैमरे के लिए घूमना पड़ता है. 

करीब चार वर्ष पहले विधायक निर्मल कुमावत ने अपने विधायक कोटे से कस्बे में पांच लाख रूपए सीसीटीवी के लिए दिए थे. कैमरे भी लगा दिए गए, लेकिन आज तक कभी भी पूरे कैमरे नहीं चल पाए. घटिया क्वालिटी के कैमरे लगाने के कारण पुलिस को कभी भी वारदात के खुलासे में मदद नहीं मिली. पहले कैमरों का कंट्रोल पुलिस स्टेशन पर एलईडी लगाके किया गया था, लेकिन बाद में नगरपालिका में अधिकारी के कक्ष में एलईडी लगा दी गई.