जयपुर: आरक्षण से परेशान दवा व्यापारी ने खुद को लगाई आग

एससी/एसटी एक्ट में बदलाव को लेकर दो अप्रैल को हुए हिंसक प्रदर्शन और इस मुद्दे पर देशभर में चल रही बहस के बीच राजस्थान में एक व्यापारी ने खुद को आग लगा ली. बताया जा रहा है कि व्यापारी आरक्षण को लेकर काफी परेशान था.

जयपुर: आरक्षण से परेशान दवा व्यापारी ने खुद को लगाई आग
व्यापारी की हालत में सुधार नहीं होने पर उसे दिल्ली रेफर कर दिया गया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली: एससी/एसटी एक्ट में बदलाव को लेकर दो अप्रैल को हुए हिंसक प्रदर्शन और इस मुद्दे पर देशभर में चल रही बहस के बीच राजस्थान में एक व्यापारी ने खुद को आग लगा ली. बताया जा रहा है कि व्यापारी आरक्षण को लेकर काफी परेशान था. सरेआम खुद को आग के हवाले करने से पहले उसने भारत माता की जय और आरक्षण हटाओ के नारे लगाए थे. बुरी तरह झुलसे शख्स को पहले स्थानीय अस्पताल ले जाया गया था, लेकिन हालत में सुधार नहीं होने पर उसे दिल्ली रेफर कर दिया गया.

दो अप्रैल को हुई हिंसा के बाद परेशान था व्यापारी
जानकारी के मुताबिक, जयपुर निवासी रघुवीर शरण अग्रवाल एससी/एसटी एक्ट में बदलाव को लेकर चल रही बहस से काफी परेशान थे. दो अप्रैल को देशभर में हुए हिंसक प्रदर्शनों से वो परेशान हो गए थे. आसपास के लोगों ने मीडिया को बताया कि रघुवीर सामाजिक मुद्दों को लेकर चर्चा करते रहते थे. आरक्षण प्रणाली को लेकर वे हमेशा विरोध में रहे.

आरक्षण हटाओ के नारे लगाते हुए लगा ली आग
रविवार को वे जयपुर के आम्रपाली सर्किल पर पहुंचे और भारत माता की जय व आरक्षण हटाओ के नारे लगाने लगे. इसके बाद उन्होंने खुद पर पेट्रोल डाला. इससे पहले की आसपास के लोग कुछ समझ पाते व्यापारी ने खुद को आग के हवाले कर दिया. कुछ लोग हिम्मत करते हुए आगे आए और आग को बुझाने का प्रयास किया. घटना की सूचना तुरंत पुलिस को दी गई.

आरक्षण खत्म करने का दुस्साहस किया तो बहेंगी खून की नदियां: सावित्री बाई फुले

स्थानीय पुलिस की टीम और एंबुलेंस के पहुंचने पर गंभीर रूप से झुलसे दवा व्यापारी रघुवीर को एसएमएस अस्पताल ले जाया गया. यहां स्थिति में सुधार नहीं हुआ तो उन्हें दिल्ली रेफर कर दिया गया.

VIDEO: सिरफिरे ने युवती को मारने के लिए की जानलेवा कोशिश, खुद को आग लगा उसे लगाया गले

बताया जा रहा है कि व्यापारी के परिवार में पत्नी सहित दो बेटे और एक बेटी है. उन्हें भी अपने पिता के इस कदम के बारे में कोई जानकारी नहीं थी. पुलिस द्वारा सूचना मिलने पर उन्हें घटना के बारे में पता चला.