Jaipur: पंचायत सहायकों को अब तक नहीं माना फ्रंटलाइन वॉरियर्स, 7 की मौत, बीमा का पता नहीं

प्रदेशभर के 27000 पंचायत सहायकों में से अभी तक 7 पंचायत सहायकों की कोरोना में ड्यूटी करते समय मौत हो गई. 

Jaipur: पंचायत सहायकों को अब तक नहीं माना फ्रंटलाइन वॉरियर्स, 7 की मौत, बीमा का पता नहीं
अभी तक 7 पंचायत सहायकों की कोरोना में ड्यूटी करते समय मौत हो गई.

Jaipur: इस कोरोना वैश्विक महामारी (Corona global epidemic) में कोरोना वॉरियर्स हताहत हो रहे हैं, दिनों-दिन संक्रमितों की संख्या बढ़ने के साथ-साथ मरने वालों की संख्या में भी इजाफा हो रहा है. 

यह भी पढ़ें- Rajasthan Covid-19: इंजीनियर्स के जीवन के प्रति गंभीर नहीं PHED, जोखिम में जानें

इसी दौर में प्रदेशभर के 27000 पंचायत सहायकों में से अभी तक 7 पंचायत सहायकों की कोरोना में ड्यूटी करते समय मौत हो गई. कागजों में उनको 50 लाख का बीमा राज्य सरकार की ओर से देय है, लेकिन अभी तक पंचायतीराज विभाग (Panchayati Raj Department) ने इन्हें कोरोना फ्रंट लाइन वर्कर तक नहीं माना है, जबकि यह लोग कोरोना वैक्सिनेशन, सर्वे दल, चेक-पोस्ट, चिरंजीवी योजना में धरातल पर दिन-रात एक किये हुए हैं.   

यह भी पढ़ें- Jhalawar में Corona का महाविस्फोट, 849 नए पॉजिटिव केस आने से प्रशासन में हड़कंप

पंचायतराज विभाग ने सरकार को भेजा ही नहीं प्रपोजल
संघ के संयोजक रामजीत पटेल ने राज्य सरकार को चेतावनी दी कि हमारी इन समस्याओं पर जल्द गौर नहीं किया तो हम इस महामारी में तो अपनी निस्वार्थ भाव से सेवाएं देंगे लेकिन हम सरकार से मानदेय नही लेंगे, यही हमारा विरोध है. राजस्थान के तमाम पंचायत सहायक संविदा पर लगे हैं और सरकार ने तमाम संविदा कर्मियों को फ्रंट वर्कर्स मानते हुए 50 लाख तक का बीमा करवाया है. लेकिन पंचायती राज विभाग की तरफ से अभी तक कोई भी प्रपोजल सरकार को नहीं भेजा है, इसलिए हमारी मांग है कि जल्द से जल्द विभाग सरकार को प्रपोजल भेजें.

मानदेय वृद्वि का आदेश कब निकलेगा
इसी प्रकार इनके साथ राशन डीलर और लोग शामिल हैं लेकिन सुविधाओं के नाम पर कुछ भी नहीं है. हमारा मानदेय वृद्धि का आदेश की अब तक जारी नहीं हुआ है जबकि यह अप्रैल से लागू होना था, यह नाकामी पंचायती राज विभाग के ढीले रवैये को दर्शाती है.