Congress के गुड़ामालानी विधायक Hemaram Choudhary ने दिया इस्तीफा, जानें बड़ी वजह

पिछले लंबे समय से कांग्रेस (Congress) के विधायक हेमाराम चौधरी सचिन पायलट (Sachin Pilot) को मुख्यमंत्री बनाने के साथ ही कई अन्य मांगों को लेकर लगातार मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का विरोध कर रहे थे.

Congress के गुड़ामालानी विधायक Hemaram Choudhary ने दिया इस्तीफा, जानें बड़ी वजह
हेमाराम चौधरी.

Barmer: गहलोत सरकार (Gehlot Government) से असंतुष्ट सचिन पायलट गुट की अगुवाई करने वाले गुड़ामालानी विधायक और पूर्व राजस्व मंत्री हेमाराम चौधरी (Hemaram Choudhary) ने आज विधानसभा सदस्य पद से इस्तीफा दे दिया. 

यह भी पढे़ं- CM Gehlot ने साधा केंद्र सरकार पर निशाना, बोले- फ्री वैक्सीन की मांग नहीं मानी

पिछले लंबे समय से कांग्रेस (Congress) के विधायक हेमाराम चौधरी सचिन पायलट (Sachin Pilot) को मुख्यमंत्री बनाने के साथ ही कई अन्य मांगों को लेकर लगातार मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का विरोध कर रहे थे.

यह भी पढे़ं- भारतीय Vaccine पर Congress का टि्वटर वार! BJP नेता ने कहा- भगवान से तो डरो

पहले भी बजा चुके बगावत का बिगुल
पिछले साल जब सचिन पायलट (Sachin Pilot) के नेतृत्व में सरकार के खिलाफ बगावत हुई थी तो उसकी अगुवाई भी कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक हेमाराम चौधरी ने की थी. गुड़ामालानी (Gudamalani) से कांग्रेस के विधायक हेमाराम चौधरी कांग्रेस से छठी बार विधायक चुने गए. इससे पहले गहलोत सरकार में कैबिनेट मंत्री से लेकर वसुंधरा सरकार में प्रतिपक्ष के नेता भी रह चुके हैं. 

सरकार पर लगाए थे वादा-खिलाफ के आरोप
विधायक हेमाराम चौधरी पिछले 1 साल भर से लगातार गहलोत सरकार (Gehlot Government) की नीतियां सहित कांग्रेस के घोषणा पत्र को लेकर विधानसभा से पार्टी कार्यक्रमों में भी सरकार पर सवाल खड़े कर रहे थे. उन्होंने कई बार यह भी आरोप लगाया है कि सरकार ने जो वादे किए थे, उस पर खरा नहीं उतर रही है. इस कारण से जनता हमसे नाराज है. 

2019 में भी सौंप चुके हैं इस्तीफा
गौरतलब है कि इससे पहले 2019 में भी विधायक हेमाराम चौधरी ने अपना इस्तीफा विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी (CP Joshi) को सौंप दिया था. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट के झगड़े को खत्म करने के लिए कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व ने तीन सदस्य कमेटी बनाकर उनके मुद्दों को हल करने और मंत्रिमंडल का विस्तार राजनीतिक नियुक्तियां करने को लेकर आश्वासन दिया था. ऐसे में कोई ठोस निर्णय नहीं होने के चलते विधायक हेमाराम चौधरी ने विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को इस्तीफा दे दिया है. 

विधायक ने लगाए काम न करवाने के आरोप
साथ ही विधायक हेमाराम चौधरी के जिला स्तर से लेकर राज्य स्तर तक उनका कोई काम नहीं हो रहा है. इस कोरोना महामारी में भी विधायक हेमाराम की जिला स्तरीय अधिकारियों ने सुननी बंद कर दी, जिससे खफा होकर विधायक हेमाराम चौधरी ने इस्तीफा भेज दिया.

मीडिया से भी बना ली दूरी
विधानसभा सदस्य से इस्तीफा भेजने के बाद हेमाराम चौधरी ने मीडिया से दूरी बना ली है और अपना इस्तीफा स्वीकार होने तक का इंतजार कर रहे हैं. उसके बाद वह मीडिया से प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपनी बात रखेंगे.

Reporter- Bhupesh Acharya