close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नागौर: खींवसर विधानसभा उप-चुनाव पर RLP सांसद हनुमान बेनीवाल ने अलापा नया राग

प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव(Vidhansabha BYpolls in Rajasthan) की घोषणा के साथ ही नागौर ज़िले (Nagaur District) के खींवसर विधान सभा उप-चुनाव को लेकर राजनीतिक बिसात बिछ गई है.

नागौर: खींवसर विधानसभा उप-चुनाव पर RLP सांसद हनुमान बेनीवाल ने अलापा नया राग
आरएलपी सुप्रीमो सांसद हनुमान बेनीवाल ने बीजेपी से खींवसर की सीट मांगी है.

मनोज सोनी, नागौर: प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव (Vidhansabha Bypolls in Rajasthan) की घोषणा के साथ ही नागौर ज़िले (Nagaur District) के खींवसर विधान सभा उप-चुनाव को लेकर राजनीतिक बिसात बिछ गई है. खींवसर विधायक रहे हनुमान बेनिवाल (Hanuman Beniwal) के नागौर सांसद बन जाने के बाद ख़ाली हुई खींवसर विधान सभा की सीट पर 21 अक़्टुबर को उप-चुनाव होंगे. 

निर्वाचन आयोग द्वारा कल हुई तारीख़ों के एलान के बाद खींवसर विधानसभा उप चुनाव को लेकर बीजेपी हो या कांग्रेस या फिर बेनीवाल की आरएलपी सभी ने हलचल तेज़ कर दी. ऐसे में सवाल यह क्या आरएलपी बीजेपी के साथ इस चुनाव चुनाव में बीजेपी को समर्थन देकर बडे भाई की भूमिका के रूप में रहेगी या स्वयं अपना प्रत्याशी खड़ा करेगी. 

राजनीतिक हलचल तेज
विधान सभा उप चुनाव की तारीख़ों के एलान के बाद अब नागौर ज़िले की खींवसर विधानसभा उप चुनाव को लेकर अचानक हलचले तेज़ हो गई है. खींवसर से विषयक रहे हनुमान बेनीवाल के नागौर से सांसद चुने जाने के बाद अब इस सीट पर उप चुनाव होने जा रहे है. उप-चुनाव को लेकर तारीख़ों की घोषणा के साथ अब धीरे धीरे प्रत्याशी चयन को लेकर दावेदारियां भी निकल कर सामने आ रही है. बीजेपी हो या कांग्रेस या फिर आएएलपी या फिर बसपा सभी ने रायशुमारिया शुरू कर दी है. 

जानिए उप-चुनाव के संभावित दावेदारों के नाम
खींवसर विधानसभा चुनाव के लिए टिकट के दावेदारों की लिस्ट काफी लंबी है. जिसमें कांग्रेस से पूर्व मंत्री हरेंद्र मिर्धा, कांग्रेस से पूर्व प्रत्याशी रहे पूर्व डीआइजी सवाई सिंह चौधरी, कुचेरा के महेंद्र पाल चौधरी, राजस्थान मानव अधिकार आयोग के पूर्व अध्यक्ष एच आर कुडी का नाम शामिल है. 

वहीं, बीजेपी से पूर्व जिला अध्यक्ष बीजेपी नागौर के रामचंद्र उता, युवा चेहरे के रूप में पूर्व ऊर्जा गजेंद्र सिंह खींवसर के पुत्र धन्नंजय सिंह या  गजेंद्र सिंह खींवसर का नाम भी सियासी गलियारों में चर्चा में है. इसके अलावा तीसरे मोर्चे एव बीजेपी गठबंधन के तौर पर सांसद हनुमान बेनीवाल के भाई नारायण बेनीवाल के नाम प्रमुख है. 

इन मुद्दों पर हो सकता है उप-चुनाव
एनडीए गठबंधन के रूप में प्रधानमंत्री मोदी का सशक्त नेतृत्व एक बड़ा मुद्दा हो सकता है. इसके अलावा कांग्रेस राज में आरएलपी के दो विधायको मेड़ता से इंदिरा देवी बावरी एवं भोपाल गढ़ से विधायक पुखराज गर्ग पर हुए मुक़दमों के मुद्दे भी चुनाव के दौरान छाए रह सकते हैं. इसके साथ बिजली के मामलों को लेकर खींवसर क्षेत्र के किसानों पर दर्ज हुए मामले भी चुनावी माहौल को बदल सकते हैं. वहीं, खींवसर उपखंड मुख्यालय होने के बावजूद सुविधाओं के लिए यह क्षेत्र तरस रहा है. जिस कारण यह मुद्दा भी छाया रह सकता है. 

बेनीवाल ने की है खींवसर सीट की डिमांड
आपको बता दें कि नागौर से आरएलपी सुप्रीमो सांसद हनुमान बेनीवाल ने बीजेपी से खींवसर की सीट मांगी है. वहीं, दूसरी ओर झुझुनूं की मंडावा सीट पर आरएलपी के बीजेपी प्रत्याशी को समर्थन देने की बात कही है. 

प्रदेश और केंद्रीय नेतृत्व करेगा तय
इस संबंध में बीजेपी के प्रदेश महामंत्री बिरमदेव सिंह जेसास का कहना है कि बीजेपी-आरएलपी का खींवसर विधान सभा उप-चुनाव में गठबंधन के बारे में प्रदेश एवं बीजेपी का राष्ट्रीय नेतृत्व तय करेगा.

यह भी देखें: 

टीम को किया गया मजबूत
वैसे इस दौरान बीजेपी ने ज़मीनी स्तर पर अपने कार्यकर्ताओं की टीम को ज़रूर मजबूत किया है. जो चुनाव को लेकर अहम कड़ी मानी जा रही है