close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोटा: MBS अस्पताल में रुकी सर्जरी उपकरणों की सप्लाई, 3 महीनों से टाले जा रहे ऑपरेशन

एमबीएस अस्पताल में भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना में स्पाइन के सामान जैसे राड़ स्क्रू सहित अन्य सामानों की सप्लाई नहीं होने से पिछले 3 माह से मरीजों के स्पाइन के ऑपरेशन नहीं हो पा रहे हैं.

कोटा: MBS अस्पताल में रुकी सर्जरी उपकरणों की सप्लाई, 3 महीनों से टाले जा रहे ऑपरेशन
कई मरीजो को तो बिना ऑपरेशन किए ही छुट्टी दे दी गई.

मुकेश सोनी/कोटा: प्रदेश के कोटा मेडिकल कॉलेज से जुड़े दो बड़े अस्पताल इन दिनों भामाशाह मरीजों को दर्द दे रहा है. इससे भी इतर मेडिकल कॉलेज प्रशासन को मरीजों की पीड़ा से कोई सरोकार नहीं है. स्थिति ऐसी है कि नए अस्पताल व एमबीएस अस्पताल में भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना में स्पाइन के सामान जैसे राड़ स्क्रू सहित अन्य सामानों की सप्लाई नहीं होने से पिछले 3 माह से मरीजों के स्पाइन के ऑपरेशन नहीं हो पा रहे हैं. ऐसे में वार्डों में भर्ती मरीज उनके परिजन परेशान हो रहे है. मजबूरन राउंड पर आने वाले डॉक्टर केवल मरीजों को आज-कल का आश्वासन देकर प्रतिदिन टाल रहे हैं. कई मरीजो को तो बिना ऑपरेशन किए ही छुट्टी दे दी गई.

रसूख के आगे बेबस
दरअसल हाल ही में अस्पताल प्रशासन ने इंप्लांट उपकरणों की सप्लाई के लिए नई फर्म से अनुबंध किया था. फर्म द्वारा स्पाइन के सामान की सप्लाई रेट कम डाली गई.डिमांड के अनुसार वर्क ऑर्डर जारी होने के बाद भी सप्लाई फर्म द्वारा स्पाइन के सामानों की सप्लाई नही की जा रही. अस्पताल प्रशासन सम्बंधित फर्म को चेतावनी पत्र तक जारी कर चुका.

सूत्रों की मानें तो विभागीय मंत्री के करीबी नेता (कोटा दक्षिण) की शह के कारण सप्लायर के हौसले बुलंद है. यही कारण है कि सप्लायर फर्म के रसूख के आगे मेडिकल कॉलेज प्रशासन बेबस नजर आ रहा है. इधर सामानों की सप्लाई नही होने के कारण ऑपरेशन टल रहे हैं. 

मरीज हो रहे परेशान 
खबर के मुताबिक 40 वर्षीय सुगना बाई राजपुरा, धनेश्वर जिला बूंदी की निवासी है. तीन माह पहले बाथरूम में गिरने से कमर में चोट लगी थी. 20 तारीख से एमबीएस में भर्ती है.स्पाइन का ऑपरेशन होना है. इम्प्लांट सप्लाई नही होने के कारण ऑपरेशन अटका हुआ है.सुगना ने बताया कि राउंड पर आने वाले चिकित्सक ने अभी तो घर जाने की सलाह दी है. स्पाइन के सामान की सप्लाई होने पर सूचना दे दी जाएगी.

वही 58 वर्षीय लटूर लाल इंदरगढ़ का निवासी है.कुछ दिन पहले खेत मे जा रहे थे. सिर पर लकड़ी का कट्ठा था,कुंए के पास अचानक गिरने से लकड़ी का कट्ठा कमर पर गिर गया और चोट लगी. परिजन इलाज के लिए नए अस्पताल पहुचे तो वहां से उन्हें एमबीएस रेफर किया. 21 जून से एमबीएस में भर्ती है. लटूर लाल का स्पाइन का ऑपरेशन होना है. इम्प्लांट सप्लाई नही होने के कारण इनका भी ऑपरेशन अटका हुआ है.

जिम्मेदारों ने बताई समस्या 
अस्थि रोग विभागाध्यक्ष डॉ आरपी मीणा का कहना है कि स्पाइन के सामान सप्लाई नही होने के बारे मुझे जानकारी नही है.मेने अभी 7 जून को ही चार्ज सम्भाला है. वैसे यूनिट हेड को भी अपने सर्जन को गाइड करना चाहिए. उनकी भी जिम्मेदारी बनती है, मरीजो को भी गाइड करे. अगर फर्म द्वारा स्पाइन के सामानों की सप्लाई नही की जा रही तो फर्म पर कार्रवाई की जाए.अकाउंट वालो से सलाह लेकर जैसा अस्पताल अधीक्षक कहेंगे वैसा करेंगे.