close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ओम बिड़ला लोकसभा स्‍पीकर चुने गए, पीएम मोदी समेत कई नेताओं ने दिया था प्रस्‍ताव

बीजेपी के वरिष्‍ठ नेता ओम बिड़ला लोकसभा के स्‍पीकर चुने गए.

ओम बिड़ला लोकसभा स्‍पीकर चुने गए, पीएम मोदी समेत कई नेताओं ने दिया था प्रस्‍ताव

नई दिल्‍ली: बीजेपी के वरिष्‍ठ नेता ओम बिड़ला लोकसभा के स्‍पीकर चुने गए. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई नेताओं ने उनके नाम का प्रस्‍ताव दिया था. उसके बाद उनके निर्वाचन की घोषणा की गई. इस अवसर पर लोकसभा में पीएम मोदी ने कहा कि स्‍पीकर पद पर ओम बिड़ला का चुना जाना गर्व का विषय है. उन्‍होंने विद्यार्थी काल से सार्वजनिक जीवन की शुरुआत की और उसके बाद बिना रुके हर पड़ाव को पार किया. सदन के पुराने सदस्‍य ओम बिड़ला से भली-भांति परिचित हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि वो लगातार समाज के किसी न किसी गतिविधि से जुड़े रहे हैं. वह कोटा जिले से लेकर राष्ट्रीय राजनीति से जुड़े रहे हैं. कोटा वो धरती है जो शिक्षा का काशी बन गया है. कोटा आज लधु भारत बन गया है. कोटा का ये परिवर्तन ओम बिड़ला के कारण हुआ है. इसके साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि राजनीति में हम लोग 24 घंटे राजनीति करते हैं. कौन हारे कौन जीते. वर्तमान मे हार्डकोर राजनीति का जमाना खत्म होता जा रहा है. ओम बिड़ला लगातार सामाजिक गतिविधियों में सक्रिय रहे हैं. गुजरात में भूकंप आया तो कच्छ में लोगों की सेवा की. उतराखंड में भी ऐसा ही किया. कोटा की सड़कों पर वो रात में निकलकर लोगों को कंबल बांटते थे. भूखों को खाना खिलाया.

छात्र जीवन से ही राजनीति में सक्रिय रहे हैं मोदी-शाह के करीबी ओम बिरला, जानिए उनका राजनीतिक सफर

कोटा से सांसद हैं ओम बिड़ला
लगातार दूसरी बार भाजपा की टिकट पर राजस्‍थान की कोटा-बूंदी सीट से लोकसभा सदस्य चुने गये ओम बिड़ला लोकसभा के अध्यक्ष पद के लिए मंगलवार को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के प्रत्याशी घोषित किए गए. इससे पहले लोकसभा सचिवालय के सूत्रों ने मंगलवार को बताया था कि इस पद के लिये बिड़ला की ओर से उनकी दावेदारी का नोटिस मिल गया है. बिड़ला ने निर्धारित समय दोपहर 12 बजे से पहले अपनी दावेदारी का नोटिस पटल कार्यालय को सौंप दिया था. नामांकन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही बिड़ला (आयु 57 वर्ष) का लोकसभा अध्यक्ष बनना तय माना जा रहा था क्योंकि सत्तासीन राजग के पास निचले सदन में स्पष्ट बहुमत है.

इस बीच संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी ने बताया कि बिड़ला के नाम के प्रस्तावकों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के अलावा बीजद और राजग के घटक दलों शिवसेना, अकाली दल तथा लोजपा सहित अन्य दलों के सदस्य शामिल रहे. बिड़ला तीन बार विधायक भी रहे हैं.