पायल रोहतगी बनी कैदी नंबर 2616, लूट और मर्डर के आरोपियों के साथ गुजारनी पड़ी रात

बूंदी सेंट्रल जेल में पायल को कैदी नंबर 2616 अलॉट किया गया. जेल के महिला बैरक में पायल को लूट, मर्डर, तस्करी के आरोपियों के बीच अपनी रात बितानी पड़ी.

पायल रोहतगी बनी कैदी नंबर 2616, लूट और मर्डर के आरोपियों के साथ गुजारनी पड़ी रात
बूंदी सेंट्रल जेल में पायल को कैदी नंबर 2616 अलॉट किया गया.

कोटा: गांधी-नेहरू परिवार पर टिप्पणी करके विवादों में फंसी अभिनेत्री पायल रोहतगी को आज यानी की मंगलवार को बेल मिलेगी या फिर जेल में ही उन्हें रहना पड़ेगा, इसका फ़ैसला बूंदी का अपर न्यायालय करेगा.

सोमवार को बूंदी के सीजेएम कोर्ट ने पायल रोहतगी के मामले में भी ज़मानत याचिका ख़ारिज करते हुए उन्हें 24 दिसंबर तक के लिए जेल भेजने का फ़ैसला किया. 

ऐसे में पायल के वक़ील भूपेंद्र सहाय सक्सेना ने पायल को जेल भेजे जाने के बाद ज़मानत याचिका बूंदी के डीजे कोर्ट में लगाई है और मंगलवार को DJ कोर्ट में इस मामले की सुनवाई के बाद पायल पर फ़ैसला होना है कि उन्हें अपर न्यायालय से ज़मानत मिलती है या उन्हें जेल में ही रहना पड़ेगा.

पायल रोहतगी बन गई क़ैदी नंबर 2616 
बूंदी सेंट्रल जेल में पायल को कैदी नंबर 2616 अलॉट किया गया. जेल के महिला बैरक में पायल को लूट, मर्डर, तस्करी के आरोपियों के बीच अपनी रात बितानी पड़ी.

हाईकोर्ट की भी है तैयारी
पायल के वकीलों ने आज बूंदी अपर न्यायालय के फ़ैसले के बाद आगे की तैयारी करते हुए पहले ही हाईकोर्ट में वकीलों से बातचीत कर तैयारी की है. सूत्रों के हवाले से ख़बर है कि बूंदी के सदर थाने में दर्ज एफआईआर को ख़ारिज करवाने के लिए सेक्शन 482 की मदद लेते हुए हाईकोर्ट जाने को लेकर पायल के वकीलों की टीम विचार कर रही है.