राजस्थान: अशोक गहलोत का सरकार पर हमला, कहा- सैन्य शौर्य पर राजनीति कर रही BJP

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुद्दों पर राजनीति करना चाहते हैं. ऐसा नहीं है कि कांग्रेस के शासन में कभी सर्जिकल स्ट्राइक नहीं हुई हो कई बार ऐसा हुआ है. 

राजस्थान: अशोक गहलोत का सरकार पर हमला, कहा- सैन्य शौर्य पर राजनीति कर रही BJP
अशोक गहलोत ने कहा कि देश में संवैधानिक संस्थाओं को खतरा पैदा हो गया है. (फाइल फोटो)

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर एक बार फिर हमला बोला है. गहलोत ने अपने आवास पर आयोजित प्रेसवार्ता में कहा कि पुलवामा अटैक के बाद हुई एयरस्ट्राइक को लेकर राजनीति करने की कोशिश की जा रही है. सेना के शौर्य और पराक्रम पर कांग्रेस को कभी भी शक नहीं हो सकता लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह जिस तरीके से सेना के शौर्य पर राजनीति कर रहे हैं यह गलत है. 

अशोक गहलोत ने दिग्विजय सिंह के बयान के समर्थन में कहा कि दिग्विजय सिंह ने ठीक कहा है. अगर पाकिस्तान में 250 आतंकवादी मारे गए हैं तो फिर सरकार को दुनिया भर की मीडिया में उठ रहे सवालों के जवाब में सबूत देने चाहिए. अशोक गहलोत ने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अहंकार के चलते विपक्ष से सरकार के रिश्ते निम्न स्तर पर आ गए हैं. प्रधानमंत्री पद की मर्यादा तार-तार हो चुकी है मंच से पीएम डबल मीनिंग कमेंट करते हैं. 5 साल जुमलेबाजी में निकाल दिए लेकिन अब चुनाव सेना के शौर्य और पराक्रम की आड़ में जीतना चाहते हैं. असल में नरेंद्र मोदी जमीनी मुद्दों से जनता का ध्यान भटका ना चाह रहे हैं. 

अशोक गहलोत ने पत्रकारों के सवालों के जवाब में कहा कि देश में संवैधानिक संस्थाओं को खतरा पैदा हो गया है. यह लोकतंत्र के लिए सही नहीं है. लोगों में एक धारणा बनती जा रही है कि अगर फिर से भाजपा सत्ता में आई तो हो सकता है संविधान ही खत्म हो जाए. ईडी, इनकम टैक्स और सीबीआई का दुरुपयोग हो रहा है. रॉबर्ट वाड्रा हो चाहे चिदंबरम का मामला सबके सामने है. किसी भी भाजपा नेता के खिलाफ 5 साल में कोई कार्यवाही नहीं हुई है. 

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुद्दों पर राजनीति करना चाहते हैं. ऐसा नहीं है कि कांग्रेस के शासन में कभी सर्जिकल स्ट्राइक नहीं हुई हो कई बार ऐसा हुआ है. बांग्लादेश का विभाजन सबसे बड़ा उदाहरण है लेकिन कभी भी इसे चुनावी मुद्दा नहीं बनाया गया. भाजपा केवल दो लोगों की पार्टी बन कर रह गयी है. भाजपा के नेता दबी जुबान में स्वीकार करते हैं लेकिन सच बोलने का साहस नहीं है. घनश्याम तिवारी जैसे नेता जो भाजपा को राजस्थान में खड़ा करने वाले लोगों में से रहे लेकिन आज उनकी क्या स्थिति है यह सबको पता है. अशोक गहलोत ने कहा जनता भाजपा की झूठ और जुमलों को समझ चुकी है लोकसभा चुनाव में कांग्रेस मिशन 25 के साथ उतर रही है.