close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने की राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों से मुलाकात

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि लोकसभा आम चुनाव-2019 में मतदाता केवल वोटर स्लिप के आधार पर मतदान नहीं कर सकेंगे. मतदान के लिए मतदाता को इपिक कार्ड (मतदाता फोटो युक्त पहचान पत्र) दिखाना होगा

राजस्थान: मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने की राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों से मुलाकात
आयोग ने कहा सभी दल पात्र मतदाताओं के नाम वोटर लिस्ट में जुड़वाने में सहयोग करे

जयपुर: मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार ने कहा कि लोकसभा चुनाव स्वतंत्र-निष्पक्ष और शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न करवाने में राजनीतिक दल भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाए. उन्होंने कहा कि सभी दल अपनी-अपनी जनसभाओं, रैलियों, वाहन आदि के संबंध में प्रशासनिक स्तर पर ली जाने वाली समस्त प्रकार की अनुमतियां समय रहते प्राप्त कर सहयोग प्रदान करें. 

आनंद कुमार सोमवार को शासन सचिवालय परिसर में आयोजित राष्ट्रीय राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि किसी भी पात्र मतदाता का नाम वोटर लिस्ट में नहीं छूटे इसके लिए नामांकन दाखिल होने के दस दिन पहले तक नाम जुड़वाने के लिए आवेदन किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि राजनीतिक दल लोकसभा क्षेत्रों में बीएलए (बूथ लेवल एजेंट) को सक्रिय बनाएं ताकि वे भी अपने-अपने क्षेत्र के पात्र मतदाताओं के नाम वोटर लिस्ट में जुड़वाने में सहयोग करे. 

उन्होंने कहा कि आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायतें मय फोटो, वीडियो आदि निर्वाचन आयोग के सी-विजिल-एप में की जा सकती है, जिससे इन पर 100 मिनट की अवधि में कार्यवाही की जा सके. उन्होंने इलेक्शन हैल्प लाइन नंबर 1950 की भी जानकारी दी. उन्होंने कहा कि मतदाता अपना नाम निर्वाचन विभाग द्वारा तैयार 'राज इलेक्षन' एप एवं सीईओ राजस्थान की वेबसाइट पर भी ढूंढ सकते हैं. उन्होंने बताया कि किसी मोबाइल में इंटरनेट नहीं होने की स्थिति में मतदाता एसएमएस के जरिए भी अपना नाम चेक कर सकते हैं. 

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि लोकसभा आम चुनाव-2019 में मतदाता केवल वोटर स्लिप के आधार पर मतदान नहीं कर सकेंगे. मतदान के लिए मतदाता को इपिक कार्ड (मतदाता फोटो युक्त पहचान पत्र) दिखाना होगा. इपिक कार्ड नहीं होने की स्थिति में 11 अन्य वैकल्पिक दस्तावेजों में से किसी एक को दिखाने पर ही मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे. उन्होंने सभी दलों से अपेक्षा की कि वे भी अपने स्तर पर इसकी जानकारी मतदाताओं को दें.

चर्चा के दौरान सभी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों ने आश्वस्त किया कि वे भी वोटर लिस्ट में नाम जुड़वाने के लिए ज्यादा से ज्यादा लोगों को जागरूक करेंगे ताकि अधिकाधिक संख्या में मतदाता निर्वाचन प्रक्रिया से जुड़ सके. इस दौरान कई राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों ने अपने सुझाव भी दिए, जिन्हें शीघ्र ही निर्वाचन विभाग भारत निर्वाचन आयोग को मार्गदर्शन के लिए भेजेगा.

बैठक में इंडियन नेशनल कांग्रेस के सुशील शर्मा, गुलाम निजामुद्दीन, विजय गर्ग भारतीय जनता पार्टी के श्री नाहर सिंह माहेश्वरी, कम्युनिस्ट पार्टी आफ इण्डिया के  नरेन्द्र आचार्य, कम्युनिस्ट पार्टी आफ इण्डिया (माक्र्ससिस्ट) की श्रीमती सुचित्रा चैपड़ा, गुरचरन सिंह, और नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी के नृपेश भरतपुरिया ने हिस्सा लिया इस दौरान निर्वाचन विभाग के अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ रेखा गुप्ता, डॉ जोगाराम, उप मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्री विनोद पारीक, विशेषाधिकारी हरिशंकर गोयल समेत कई अधिकारीगण उपस्थित रहे.