close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: गुर्जरों को 32 भर्तियों में नौकरी की आस, सरकार ले सकती है बड़ा फैसला

कर्नल किरोडी बैंसला के बीजेपी ज्वाइंन करने के बाद अब हिम्मत सिंह लगातार सवाल उठा रहे है कि आखिर किरोडी बैंसला किस हैसियत से सरकार से वार्ता करेंगे. 

राजस्थान: गुर्जरों को 32 भर्तियों में नौकरी की आस, सरकार ले सकती है बड़ा फैसला
दूसरी ओर किरोडी बैंसला ने सरकार के निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है.

जयपुर: राजस्थान में लोकसभा चुनाव के बाद एक बार फिर से गुर्जर आरक्षण को लेकर सरकार गंभीर हो गई है. रविवार को फिर से सरकार और गुर्जरों के बीच वार्ता होगी. जिसमें केबिनेट सबकमेटी चर्चा करेगी कि प्रक्रियाधीन और बैकलॉग की अटकी भर्तियों का किस तरह से समाधान निकाला जाए.

राजस्थान में एक बार फिर से गुर्जर आरक्षण मसला चर्चाओं में है, लेकिन अबकी बार गुर्जरों को सरकारी नौकरी में आरक्षण मिलने से ज्यादा चर्चा कर्नल किरोडी बैंसला और हिम्मत सिंह के बीच घमासान हुए घमासान को लेकर तेज हो गई है. दोनों ही गुर्जर नेता एक दूसरे के आमने सामने दिखाई दे रहे है. कर्नल किरोडी बैंसला के बीजेपी ज्वाइंन करने के बाद अब हिम्मत सिंह लगातार सवाल उठा रहे है कि आखिर किरोडी बैंसला किस हैसियत से सरकार से वार्ता करेंगे. 

खबर के मुताबिक किरोड़ी बैंसला और सरकार के मंत्रियों के साथ कल वार्ता होगी, जिसमें इस बैठक में प्रक्रियाधीन और बैकलॉग की भर्तियों को लेकर फैसला लिया जा सकता है. दूसरी ओर प्रशासन द्धारा हिम्मत सिंह को वार्ता में नहीं बुलाने पर वे सरकार से उखडे उखडे दिखाई दे रहे है. वैसे भी जब से गुर्जरों में दो फाड़ हुए है, तब से दोनों नेताओं के रास्ते अलग अलग ही दिखाई दे रहे है, इसलिए तो एक तरफ तो हिम्मत गुट ने सिकदंरा में महापंचायत का आगाज कर दिया. वहीं दूसरी ओर किरोडी बैंसला ने सरकार के निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है.

वहीं गुर्जर नेताओं की नाराजगी है कि समझौते के अनुसार गुर्जरों को भर्तियों में आरक्षण नहीं मिल रहा है. जिसके चलते गुर्जर समेत पांचों जातियों को सरकारी नौकरी नहीं मिल पा रही. कई विभागों की लापरवाही के चलते भी ऐसा नहीं हो पा रहा है. जो भर्तियों आरक्षण के चलते अटकी हुई उसको लेकर सरकार इस मीटिंग में फैसला ले सकती है. यानि आगे आने वाले दिनों में हजारों बेरोजगारों को गहलोत सरकार राहत दे सकती है. कर्नल किरोडी बैंसला के साथ सरकार में मंत्री विश्वेद्र सिंह, रघु शर्मा और मास्टर भंवरलाल मेघवाल चर्चा करेंगे, जिसमें मुख्य सचिव समेत चार विभागों के एसीएस अपने अपने विभाग की भर्तियों के बारे में जानकारी देंगे.

इस मीटिंग क बाद हजारो बेरोजगारो को रोजगार मिलने की उम्मीदे भी बढने लगी है, क्योंकि आरक्षण के चलते कई भर्तियां अटकी पडी है. हालांकि इस मीटिंग में अटकी भर्तियों को लेकर समाधान निकलने के पूरे पूरे आसार दिखाई दे रहे है. क्योकि कुल 32 भर्तियां ऐसी है जो बैकलॉग और प्रक्रियाधीन है, जिसमें गुर्जर समाज को आरक्षण का लाभ नहीं मिल पाया है.