राजस्थान: सरकार बदलते ही पेंशन सिस्टम में भी बदलाव, बुर्जगों के लिए प्रक्रिया होगी आसान

सरकार बदलते ही अब बुजुर्ग पेंशन धारियों के लिए सरकारी सिस्टम बदलने वाला है.

राजस्थान: सरकार बदलते ही पेंशन सिस्टम में भी बदलाव, बुर्जगों के लिए प्रक्रिया होगी आसान
फिलहाल बुजुर्गों को 500 रुपये प्रतिमाह पेंशन दी जाती है. (फाइल फोटो)

जयपुर: राजस्थान में नई सरकार के आते ही बुजुर्ग पेंशन धारियों को बड़ी राहत मिलेगी. सरकार बदलते ही अब बुजुर्ग पेंशन धारियों के लिए सरकारी सिस्टम बदलने वाला है. बुजुर्ग पेंशन धारियों को खुद के जन्म के प्रमाण के लिए ईमित्र जाकर बायोमेट्रिक सिस्टम से नहीं गुजरना पड़ेगा, बल्कि अब बुजुर्ग सेल्फ अटेस्टेड के जरिए ही अपने जीवित होने का प्रमाण दे सकेंगे, ताकि उनके खाते में हर महीने समय से पेंशन आती रहे. 

फिलहाल बुजुर्गों को 500 रुपये प्रतिमाह पेंशन दी जाती है लेकिन अब सरकार इसी महीने से 750 रुपये प्रतिमाह पेंशन देने जा रही है. यानी नई सरकार के आते ही अब बुजुर्गों को डबल फायदा होने वाला है. एक तो उनकी पेंशन बढ़ेगी और दूसरा उनकी दौड़ धूप कम होगी. राजस्थान में करीब 50 लाख बुजुर्गों को सरकार पेंशन देती है. लाखों बुजुर्गों को हर साल अपने जीवित होने का प्रमाण पत्र देना होता है. ईमित्र पर जाकर बायोमैट्रिक सिस्टम के जरिए इन्हें अपने जीवित होने का प्रमाण पत्र देना होता है. लेकिन अब सरकार बदलते ही राजस्थान में पेंशन धारियों के लिए पूरा सिस्टम बदल रहा है. आने वाले वक्त में जल्द ही यह सिस्टम पूरे राजस्थान में लागू होगा. 

बुजुर्गों के लिए सरकारी सिस्टम बदलने का फैसला खुद सामाजिक न्याय अधिकारिता मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल ने लिया है. उन्होंने यह साफ कर दिया है कि आने वाले दिनों में बुजुर्गों को किसी भी तरह की दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ेगा. जल्द से जल्द यह सिस्टम लागू किया जाएगा. मास्टर भंवरलाल मेघवाल ने इस संबंध में अधिकारियों को निर्देश दिए हैं और जल्द से जल्द यह सिस्टम लागू करने के आदेश दिए. उन्होंने कहा कि अभी तक बुजुर्गों को ही ईमित्र के चक्कर काटने पड़ते हैं, कई तरह के अटेस्टेड करवाने पड़ते हैं और जिस वजह से पेंशन में देरी होती है लेकिन अब जल्द ही सरकार सिस्टम को बदलना चाहती है और सेल्फ अटेस्टेड के जरिए ही उन्हें पेंशन देगी. ताकि बुजुर्गों को राहत मिल सके और उन्हें पूरा हक से पेंशन मिले.

इसके अलावा यदि कोई फर्जीवाड़े तरीके से बुजुर्गों के पेंशन उठाता है या फर्जी साइन के जरिए पेंशन देता है तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी. मास्टर भंवरलाल मेघवाल ने कहा है कि "यदि ऐसे मामले सामने आते हैं तो उनके खिलाफ एक्शन लिया जाएगा." मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल ने अधिकारियों को निर्देश दे दिए अब देखना यह होगा कि आखिरकार कब तक यह सिस्टम लागू होता है और कितना जल्दी बुजुर्ग पेंशन धारियों को राहत मिल सकेगी.