close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान सरकार अवैध भ्रूण लिंग परीक्षण मामले को लेकर सख्त, मिलेगी कड़ी सजा

सरकार ने इस अधिनियम के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए पड़ोसी राज्य के साथ मिलकर जल्द एक समन्वय बैठक आयोजित करने के निर्देश दिए है.

राजस्थान सरकार अवैध भ्रूण लिंग परीक्षण मामले को लेकर सख्त, मिलेगी कड़ी सजा
सूचना देने वाले की पहचान गोपनीय रखी जाएगी.

आशुतोष शर्मा/जयपुर: कोख में बेटियों को मारने वाले गुनेह्गारों की राजस्थान में अब खैर नहीं है. जीरो टोलरेंस पर काम कर रहे हैल्थ मिनिस्टर ने अब ऐसे लोगों के खिलाफ और सख्ती बरतने के निर्देश दे दिए है जो बेटियों के दुश्मन है. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर रघु शर्मा ने पीसीपीएनडीटी एक्ट के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए सोनोग्राफी केन्द्रों की सघन मॉनिटरिंग करने के लिए सोनोग्राफी केन्द्रों का नियमित निरीक्षण करने के निर्देश दिए. 

साथ ही इस अधिनियम के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए पड़ोसी राज्य के साथ मिलकर जल्द एक समन्वय बैठक आयोजित करने के निर्देश दिए है. PCPNDT एक्ट को और प्रभावी बनाने के लिये एक मोबाइल एप बनाने के भी निर्देश दिये गये है. जिस पर शिकायतकर्ता ऑनलाइन फोटो और वीडियो के साथ शिकायत दर्ज करा सकेंगे. इसी कड़ी में अब राज्य PCPNDT सैल ने एक बड़ा कदम उठाते हुए प्रदेश में आमजन के लिए भ्रूण लिंग परीक्षण संबंधी सूचना/शिकायत के लिए वाट्सअप नम्बर 9799997795 जारी किया है.

इस वाट्सअप नम्बर पर कोई भी व्यक्ति सुबह 9.30 बजे से शाम 6 बजे तक वीडियो/लिखित संदेश किसी भी तरीके से सूचना/शिकायत दर्ज करा सकता है. देने वाले की पहचान गोपनीय रखी जायेगी. आपको बता दें कि इस साल अब तक 8 डिकाॅय ऑपरेशन करते हुए 16 व्यक्ति गिरफ्तार किये गये है. वहीं अब तक 212 लोगों की गिरफ़्तारी हो चुकी है.

बता दें कि अवैध भ्रूण लिंग परीक्षण मामलो में अब तक 152 मामलो में 212 व्यकितयों को सजा मिल चुकी है. यहां तक कि भ्रूण लिंग परिक्षण की शिकायत दर्ज करने वाले व्हाट्सएप पर भी सूचना देने वाले की पहचान गोपनीय रखी जाएगी.