राजस्थान सरकार की चेतावनी, बिना वजह बिजली काटी तो होगी कार्रवाई

लापरवाही करने के आरोप में करौली और डीग के दो अधिकारियों को सस्पेंड किया जा चुका है.

राजस्थान सरकार की चेतावनी, बिना वजह बिजली काटी तो होगी कार्रवाई
मुख्यालय स्तर पर हर दिन की शिकायतों की मॉनिटरिंग की जा रही है

जयपुर: राजस्थान सरकार ने भीषण गर्मी को देखते हुए बिजली विभाग को पूरी तरह अलर्ट पर रहने का आदेश दिया है. सरकार ने विभाग में यह निर्देश दिए हैं कि अगर बगैर किसी वजह के प्रदेश में बिजली कटती है तो अब बिजली विभाग के संबंधित अधिकारी पर कार्रवाई की जाएगी.

सरकार इस बता पर बेहद सख्त है कि उर्जा विभाग के ऐसे अधिकारी, जो लापरवाही करेंगे, अब सरकार उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करेंगी. यहां तक कि इसकी शुरूआत भी हो चुकी है. लापरवाही करने के आरोप में करौली और डीग के दो अधिकारियों को सस्पेंड किया जा चुका है. ऊर्जा महकमे की तरफ से जयपुर, जोधपुर और अजमेर डिस्कॉम के अधिकारियों को साफ निर्देश दिए गए हैं कि उपभोक्ताओं की शिकायतें पेंडिंग न रहने पाए. शिकायत के स्तर को देखते हुए सुधार के अधिकतम घंटे और जिम्मेदारी विभाग ने तय की हैं.

डिस्कॉम्स के प्रबंध निदेशकों को साफ कहा गया है कि जिन फीडर्स पर शिकायतों का ग्राफ ज्यादा है, उन्हें क्लोज मॉनिटरिंग में लेकर शिकायतें दुरूस्त करवाएं. वहीं ज्यादा समय की बिजली कटौती और आंधी-तूफान की स्थिति में जिला कलेक्टर्स से भी समन्वय बनाने के निर्देश दिए गए हैं.

जयपुर डिस्कॉम के प्रबंध निदेशक का कहना है, कि आंधी तूफान के समय कुछ इलाकों में जल्द बिजली आपूर्ति में प्रबंधन फेल रहा है. इनमें कुछ जगहों पर कार्मिकों की लापरवाही पाई गई. इसके तहत करौली और डीग के अधिकारियों को निलंबित भी किया गया. अगर भविष्य में भी बिजली सप्लाई में लापरवाही बरतने पर कार्मिकों की भूमिका तय होती है, तो कड़ा एक्शन लिया जाएगा. 

मुख्यालय स्तर पर हर दिन की शिकायतों की मॉनिटरिंग की जा रही है. साथ ही एमडी स्तर पर प्रतिदिन जिला कलेक्टर्स और स्थानीय विधायकों से बिजली आपूर्ति का फीडबैक भी लिया जा रहा हैं. कोशिश यहीं हैं कि शिकायतों में आई तेजी थमें.