close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: सरहदी इलाकों पर भारतीय सेना ने संदिग्धों पर कसा शिकंजा

जैसलमेर लाठी थाना क्षेत्र में भी उत्तरप्रदेष के रहने वाले अमजद अली को पुलिस ने हिरासत में लिया था जिसके पास 5 मोबाईल फोन और 14 अलग अलग सिम भी बरामद हुई थी

राजस्थान: सरहदी इलाकों पर भारतीय सेना ने संदिग्धों पर कसा शिकंजा
जैसलमेर के सरहदी इलाकों में पिछले दिनों में एक दर्जन से भी अधिक संदिग्धों को पकड़ा जा चुका है

जैसलमेर: प्रदेश के सरहदी इलाके जैसलमेर में इन दिनों चल रहे हाई अलर्ट के बीच लगातार पकडे जा रहे संदिग्ध लोगों को देखकर तनाव के बढ़ने लगा है. सरहद के इन जयचंदों को लेकर पुलिस एवं सुरक्षा एजेन्सियां पूरी तरह से सतर्क है. जैसलमेर में पिछले दिनों एक दर्जन से भी अधिक संदिग्ध पकड़े जाने के मामले सामने आ चुके हैं. ऐसे में यहां की सुरक्षा सिर्फ सीमा पर खड़े जवानों की जिम्मेदारी नहीं है, बल्कि आमजन को भी अपनी जिम्मेदारी निभानी होगी ताकि देश की सुरक्षा के साथ कोई भी खिलवाड़ न कर सके.

वहीं पुलवामा आतंकी हमले के बाद सरकार द्वारा पाकिस्तान के खिलाफ की गई एयरस्ट्राइक के बाद देश की इस सरहद पर भी तनाव बढ गया है. सीमा पर जहां सेनाओं ने मोर्चा संभाल रखा है, वहीं वायुसेना और आंतरिक सुरक्षा की सभी एजेन्सियां हाई एलर्ट पर आ गई है. इलाके में बडे सैन्य मूवमेंट और तनाव के बीच सरहदी इलाकों में एकाएक संदिग्धों की संख्या में भी इजाफा हो रहा है जो कि सुरक्षा एजेन्सियों के लिये चिन्ता का विषय बनता जा रहा है. 
 
बात करें अगर बीते कुछ दिनों की तो जैसलमेर के सरहदी इलाकों में पिछले दिनों में एक दर्जन से भी अधिक संदिग्धों को पकड़ा जा चुका है. जैसलमेर जिले में बीते दिनों पकडे गये संदिग्धों की अगर बात करें तो इलाके के नाचना क्षेत्र में में आर्मी एरिया के पास एक संदिग्ध युवक को पकडा गया था, जिसमें पुलिस द्वारा की गई पूछताछ और संयुक्त सुरक्षा ऐजेन्सियों की पूछताछ में पाया गया कि वो घडसाना इलाके का रहने वाला था.

वहीं जैसलमेर के कोतवाली थाना क्षेत्र में शहर के हनुमान चौराहे से पुलिस ने एक संदिग्ध को हिरासत में लिया था. हालांकि विक्षिप्त होने के चलते वो अपना नाम और पता तो नहीं बता पाया लेकिन पुलिस और सुरक्षा ऐजेन्सियों ने उसके साथ भी कड़ाई से पूछताछ की थी.

इसी कड़ी में जैसलमेर लाठी थाना क्षेत्र में भी उत्तर प्रदेश के रहने वाले अमजद अली को पुलिस ने हिरासत में लिया था जिसके पास 5 मोबाईल फोन और 14 अलग अलग सिम भी बरामद हुई थी. इसके बाद पुलिस और सुरक्षा ऐजेन्सियों की पूछताछ में उतने बताया कि वो जैसलमेर में मदरसों के लिये चंदा एकत्र करने के लिये आया था, लेकिन मोबाइल और सिमों को लेकर पुलिस व सुरक्षा ऐजेन्सियां उससे अभी तक पूछताछ कर रही है.

जैसलमेर के सरहदी इलाके मोहनगढ में भी सेना के जवानों ने तीन युवकों को आर्मी वाहनों के मूवमेंट की तस्वीरें खींचते हुए पकडा था. जिन्हें बाद में मोहनगढ पुलिस के हवाले किया गया. इन युवकों से पूछताछ में सामने आया था कि इनके मोबाईल फोन में व्हाट्सप ग्रुप थे जिसमें कई पाकिस्तानी लोग भी इनसे जुडे हुए थे. ऐसे में पुलिस व सुरक्षा ऐजेन्सियां इन संदिग्धों से भी लगातार पूछताछ कर रही है.

हालांकि इन संदिग्धों और सरहद के जयचंदों को लेकर पुलिस एवं सुरक्षा ऐजेन्सियां पूरी तरह से सर्तक है. पुलिस अधीक्षक किरण कंग का कहना है कि इन परिस्थितियों में आमजन को भी सतर्क रहने की जरूरत है. उन्होंने आमजन से अपील की है कि अपने आसपास होने वाली संदिग्ध घटनाओं और संदिग्ध लोगों के बार में पुलिस को जानकारी देते रहें ताकि देश की सुरक्षा में सुराख करने वाले इन जयचंदों मंसूबों को नाकामयाब किया जा सके.