राजस्थान: नेता जी विधायक नहीं बने तो पुलिस की वर्दी पहन कर शुरू कर दी उगाही

पुलिस के अनुसार बनवारी सुबह-सुबह अंधेरे में ही वसूली करने पहुंच जाता था और प्रतिदिन 4 से 5 हजार रुपए वसूली कर लेता था.

राजस्थान: नेता जी विधायक नहीं बने तो पुलिस की वर्दी पहन कर शुरू कर दी उगाही
बनवारी लाल बैरवा पुलिस की वर्दी खरीदी और वसूली करना शुरू कर दिया था.

टोंक: विधानसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर टोंक के निवाई से एमएलए का चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशी बनवारी लाल बैरवा ने हारने के बाद पुलिस वर्दी पहनकर बजरी माफिया से वसूली करना शुरू कर दिया. आरोपी पिछले 3 से 4 महीने से सुबह-सुबह वर्दी पहनकर बजरी से भरे ट्रैक्टर और ट्रक पर कार्रवाई नहीं करने की धमकी देकर उनसे पांच सौ से दो हजार रुपए वसूल रहा था. ट्रैक्टर चालकों को शक होने पर उसे पकड़ कर पुलिस को सौंप दिया.

फागी थाने के बराला की ढाणी निवासी भंवरलाल कल सुबह अपने साथियों के साथ पुलिस वर्दी में एक व्यक्ति को पकड़ कर मुहाना थाने लाया था. उसे देखकर एक बार पुलिसकर्मी भी कुछ समझ नहीं पाए. पूछताछ में फर्जी पुलिसकर्मी बन वसूली करने का खुलासा होने पर पुलिस ने बनवारी को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस के अनुसार बनवारी सुबह-सुबह अंधेरे में ही वसूली करने पहुंच जाता था और प्रतिदिन 4 से 5 हजार रुपए वसूली कर लेता था. जांच अधिकारी उप निरीक्षक कन्हैयालाल ने बताया कि आरोपी पुलिस कार्रवाई का भय दिखाकर वसूली करता था.

उसने पुलिस लाइन के बाहर से पुलिस की वर्दी खरीदी और वसूली करना शुरू कर दिया. बनवारी पुलिस की वर्दी और कोट पहनकर रहता था, जिससे उसका नाम और बैच नहीं दिखते थे. कैप पर राजस्थान पुलिस लिखा हुआ है. बनवारी लाल बैरवा को विधानसभा चुनाव में मात्र 1534 वोट मिले थे, लेकिन वो तीसरे नंबर पर रहा था. उसकी जमानत जब्त हो गई थी.