राजस्थान: पुरस्कृत शिक्षकों का राज्य स्तरीय सम्मान समारोह, 23 शिक्षकों का किया अभिवादन

राजस्थान पुरस्कृत शिक्षक फोरम राजस्थान की ओर से हर साल आयोजित होने वाले पुरस्कार सम्मान समारोह में शनिवार को 23 शिक्षकों का सम्मान किया गया

राजस्थान: पुरस्कृत शिक्षकों का राज्य स्तरीय सम्मान समारोह, 23 शिक्षकों का किया अभिवादन
शिक्षा मंत्री ने इन शिक्षकों के सामने आ रही हर समस्या के समाधान का भी आश्वासन दिया

ललित कुमार/जयपुर: शिक्षक से बढ़कर कोई नहीं और इन्हीं शिक्षकों को हर साल राज्य स्तरीय समारोह में राजस्थान पुरस्कृत शिक्षक फोरम की ओर से शिक्षकों का सम्मानित किया जाता है. शिक्षाविद् तेजकरण डंडिया की स्मृति में शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 23 शिक्षकों को आज फोरम की ओर से सम्मानित किया गया. कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कार्यक्रम में मौजूद सभी शिक्षकों को प्रणाम कर स्वागत किया. साथ ही मंच से अपने बच्चों और प्रदेश के हर व्यक्ति को गुरु का सम्मान करने की सलाह दी. इसके साथ ही गोविंद सिंह डोटासरा ने प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था को बेहतरी को ओर ले जाने के लिए पुरस्कृत शिक्षकों का सहयोग मांगा.

राजस्थान पुरस्कृत शिक्षक फोरम राजस्थान की ओर से हर साल आयोजित होने वाले पुरस्कार सम्मान समारोह में शनिवार को 23 शिक्षकों का सम्मान किया गया. राज्य स्तर पर जहां 10 शिक्षकों का सम्मान किया गया तो वहीं कक्षा 10वीं और 12वीं में श्रेष्ठ पुस्तक लिखने वाले 13 शिक्षकों का भी समारोह में सम्मान किया गया. सम्मानित हुए शिक्षकों को शोल ओढाकर, प्रशस्ति पत्र और चैक भेंट कर सम्मानित किया गया. कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत कर रहे शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने सभी शिक्षकों को प्रणाम कर अभिवादन किया.

कार्यक्रम की शुरूआत में फोरम के सचिव आरपी शर्मा ने शिक्षा मंत्री को फोरम के कार्यों से अवगत करवाया. साथ ही मंत्री को स्मृति चिन्ह भेंट कर उनका स्वागत किया. शिक्षा मंत्री ने मौजूद शिक्षकों को संबोधित करते हुए कहा कि 'चाहे व्यक्ति कितना भी बढ़ा क्यूं ना बन चाए,चाहे प्रधानमंत्री ही बन जाए लेकिन वो अपने गुरु के पैर छूकर ही सम्मान करता है, क्योंकि हमारे देश में सर्वोच्च स्थान गुरु को दिया गया है, और गुरु ही वो सीढी के जिसके माध्यम से सफलता को प्राप्त किया जा सकता है. इसके था ही मैं अपने बच्चों को भी इस मंच से सलाह देता हूं की गुरु के सम्मान से ही सफलता मिल सकती है'.

शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा की पुरस्कृत शिक्षक फोरम में जो भी शिक्षक सम्मलित हैं. वो सभी सम्मानित हैं और उनका अनुभव प्रदेश की शिक्षा को काफी बढ़ाने में कारगर साबित होता है. ऐसे में प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था की बेहतरी के लिए इन शिक्षकों का मार्गदर्शन लिया जाएगा. साथ ही नामांकन बढाने और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा में भी ये पुरस्कृत शिक्षक अपना योगदान निभाते आए हैं और आगे भी निभाते रहेंगे. साथ ही शिक्षा मंत्री ने इन शिक्षकों के सामने आ रही हर समस्या के समाधान का भी आश्वासन दिया.