close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: जल विभाग की लापरवाही से बर्बाद हुआ हजारो लीटर पानी

अब बीसलपुर बांध में केवल 18 फीसदी पानी ही बचा है, लेकिन इसके बावजूद भी जयपुर शहर में पानी की बर्बादी को रोकने के लिए कोई कदम नहीं उठाया जा रहा है

राजस्थान: जल विभाग की लापरवाही से बर्बाद हुआ हजारो लीटर पानी
बीसलपुर बांध का जल स्तर 308.50 आरएल मीटर ही रह गया है

दौसा: प्रदेश की राजधानी के दौसा जिला पानी की बड़ी किल्लत से जूझ रहा है. शहर के लोगों को सात-सात दिन में पीने के लिए पानी नलों का उपलब्ध हो रहा है लेकिन दूसरी ओर विभाग की लापरवाही के चलते आज दोसा के सोमनाथ चौराहे के पास पानी की पाइप लाइन टूटने से हजारों लिटर पानी व्यर्थ बह गया. घंटों तक पानी बहता रहा लेकिन जलदाय विभाग का एक भी कर्मचारी अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा. 

बता दें कि सात साल बाद फिर से बीसलपुर बांध सूखने के कगार पर है. पानी की कमी के कारण जयपुर में पानी का संकट बढता जा रहा है. अब बीसलपुर बांध में केवल 18 फीसदी पानी ही बचा है, लेकिन इसके बावजूद भी जयपुर शहर में पानी की बर्बादी को रोकने के लिए कोई कदम नहीं उठाया जा रहा है. बीसलपुर बांध का जल स्तर 308.50 आरएल मीटर ही रह गया है. बांध में 7.10 टीएमसी यानि केवल 18 फीसदी पानी ही बचा है. 

बांध का जल स्तर रोजाना डेढ़ से दो सेमी गिर रहा है. इसके बावजूद जलदाय विभाग ने नए ट्यूबवेल खोदने की स्पीड नहीं बढ़ाई है. विभाग के इंजीनियरों की लापरवाही के कारण टेंडर, वर्कऑर्डर देने में ही चार महीने गुजार दिए है. ट्यूबवेल नहीं खोदने के कारण बीसलपुर बांध से ज्यादा पानी लेना पड़ रहा है. ऐसे में जून के अंतिम सप्ताह तक बांध में पानी समाप्त होने की आशंका जताई जा रही है.

मुख्य अभियंता आईडी खान का कहना है कि शहर में रोजाना 4100 लाख लीटर पानी सप्लाई हो रहा है. बीसलपुर सिस्टम से केवल 3000 लाख लीटर और ट्यूबवेल से 1100 लाख लीटर पानी सप्लाई हो रहा है. पाइपलाइन की लंबाई ज्यादा होने के कारण टेल एंड वाले उपभोक्ताओं तक पानी ही नहीं पहुंच रहा है. वहीं जलविभाग की लापरवाही के बाद शहर में पानी बेहिसाब बह रहा है, क्योंकि जयपुर में समय रहते हुए स्थिति सुधार नहीं की गई तो शहर भर मे जलसंकट बढ सकता है.