close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: सवाल पूछने पर मंत्रीजी की विधायकों को नसीहत, कहा- पेन ड्राइव में रखो डाटा

राजस्थान विधानसभा में बीजेपी लगातार किसानों के मुद्दे पर कांग्रेस से सवाल करती है जिससे कांग्रेस के मंत्री ने यह जवाब दे डाला.

राजस्थान: सवाल पूछने पर मंत्रीजी की विधायकों को नसीहत, कहा- पेन ड्राइव में रखो डाटा
जवाब नहीं मिलने पर बीजेपी सदस्य सदन से वॉकआउट कर गए. (प्रतीकात्मक फोटो)

जयपुर: राजस्थान विधानसभा में विपक्ष की ओर से लगातार कर्जमाफी पर सवाल उठाए जाने पर सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने विपक्ष को पैन ड्राइव में डाटा रखने की नसीहत दे डाली. मंत्री के ऐसे जवाब को सुनकर बीजेपी ने नाराजगी जताई और सदन में हंगामा होने लगा. जिस पर बीजेपी सदस्यों ने कहा कि मंत्री लगातार जवाब से बचते नजर आ रहे हैं. 

इस दौरान अध्यक्ष ने अगला सवाल को लिया तो विपक्ष ने आपत्ति जताई. इस दौरान बीजेपी विधायकों ने कहा कि किसानों से जुडे इश्यू को हलके में नहीं ले सकते. इसके बाद उन्होंने आसन से संरक्षण की मांग की. सदन में कर्ज माफी पर जवाब नहीं मिला तो बीजेपी सदस्य सदन से वॉकआउट कर गए. 

बता दें, संतोष ने अनूपगढ में कर्ज माफी कैंपों को लेकर सवाल लगाया था. जिस पर मंत्री उदयलाल आंजना ने जवाब देते हुए कहा कि राज्य सरकार द्वारा किसानों के 7 हजार 179 करोड रुपए के अल्पकालिन ऋण माफ कर दिए गए. 17 फरवरी 2019 तक ऋण माफी के लिए 19 लाख 99 हजार 200 आवेदन आए. जिसमें से 19 लाख 70 हजार 135 आधार आधारित प्रमाणित हो चुके हैं. उनमें से 19 लाख 40 हजार 596 कि ऋण मुक्ति  प्रमाण पत्र जारी हो चुके हैं. उनमें से 7 हजार 179 करोड के अल्पकालिन ऋण माफ किए जा चुके हैं. सबके प्रमाण पत्र साइट पर अपलोड कर दिए गए हैं. 

लाइव टीवी देखें-:

भाजपा नेता राजेंद्र राठौड़ ने पूरक प्रश्न के दौरान पूछा कि आपने दो लाख तक के ऋण माफ करने की बात कही थी. जिस पर आंजना ने कहा कि 2 लाख तक के ऋण माफ करने के लिए बैंकों से बात की जा रही है. सीएम स्तर से भी प्रयास किया जा रहा है. इस पर जब कर्जमाफी के आंकड़ों को लेकर सवाल किया गया तो मंत्री ने कहा कि आप बार बार आंकड़े पूछ रहे हैं जिसका जवाब देते हुए आंजना ने कहा कि आप इन आंकड़ों को पैन ड्राइव में रख लो, जिससे जब भी जरूरत पड़े आप देख लो. इसके बाद सदन में हंगामा शुरू हो गया और बीजेपी ने सदन से वॉक आउट कर दिया.