किशनगढ़: रेलवे का नया कमाल, डबल डेकर मालगाड़ी से जाएंगे सामान

भारतीय रेलवे के इतिहास में जल्द ही नई कामयाबी जुड़ने वाली है. भारत के पहले डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर पर जल्द ही डबल डेकर मालगाड़ियां दौड़ेंगी. 

किशनगढ़: रेलवे का नया कमाल, डबल डेकर मालगाड़ी से जाएंगे सामान
डबल कंटेनर के साथ ट्रेन चलाने का ट्रायल राजस्थान के न्यू किशनगढ़ से शुरू हो गया है

ब्रह्म प्रकाश दुबे, किशनगढ़: भारतीय रेलवे के इतिहास में जल्द ही नई कामयाबी जुड़ने वाली है. भारत के पहले डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर पर जल्द ही डबल डेकर मालगाड़ियां दौड़ेंगी. रेलवे ने ट्रायल के तौर डबल डेकर वाली कंटेनर ट्रेनों की शुरुआत की है.

भारतीय रेलवे नया इतिहास लिखने की ओर है. रेलवे में जल्द ही डबल डेकर कंटेनर के जरिए देश के एक हिस्से से दूसरे हिस्से में सामानों की सप्लाई की शुरुआत होने वाली है. डेडिकेटेड फ्रेड कॉरिडोर यानी सिर्फ मालगाड़ी के लिए बन रहे ट्रैक पर डबल कंटेनर के साथ ट्रेन चलाने का ट्रायल राजस्थान के न्यू किशनगढ़ से शुरू हो गया है. पूजा पाठ के साथ डबल डेकर कंटेनर का ट्रायल शुरू किया गया. 

82 हजार करोड़ की लागत से तैयार हो रहे डीएफसी कॉरिडोर पर सिर्फ और सिर्फ माल गाड़ियां चलेंगी. खास बात ये है कि इस कॉरिडोर के जरिए गुड्स ट्रेन की जो अभी लंबाई होती है 650 से 700 मीटर होती है वो डीएफसी कॉरिडोर पर तकरीबन 1500 मीटर लंबी गुड्स ट्रेन चलाना संभव होगा.

दिल्ली से मुंबई के बीच बन रहे डीएफसी पर अभी 350 किलोमीटर का हिस्सा पूरी तरह से तैयार है. 31 मार्च 2020 तक 650 किलोमीटर का हिस्सा तैयार हो जाएगा और अगले साल के अंत तक पूरे 1500 किलोमीटर लंबे कॉरिडोर पर डबल डेकर मालगाड़ी चलनी शुरू हो जाएंगी.