राजस्थान में सर्दी ने ढाया कहर, 5 शहरों में पारा पहुंचा शून्य के नीचे

जोबनर में शून्य से दो डिग्री नीचे, आबू में शून्य से 1.5 डिग्री नीचे, सीकर में शून्य से 0.8 डिग्री नीचे और चुरू में शून्य से छह डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज हुआ.

राजस्थान में सर्दी ने ढाया कहर, 5 शहरों में पारा पहुंचा शून्य के नीचे
मौसम विभाग ने शीतलहर और घने कोहरे की चेतावनी दी है.

जयपुर: राजस्थान के पांच शहरों में न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे चला गया. मौसम विभाग के अधिकारियों ने यह जानकारी दी. शुक्रवार रात फतेहपुर में तापमान शून्य से तीन डिग्री सेल्सियस नीचे, जोबनर में शून्य से दो डिग्री नीचे, आबू में शून्य से 1.5 डिग्री नीचे, सीकर में शून्य से 0.8 डिग्री नीचे और चुरू में शून्य से छह डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज हुआ.

अन्य शहर जहां पांच डिग्री से कम तापमान दर्ज हुआ उन शहरों में पिलानी (0.4), राजसमंद (1.4), गंगानगर (1.4), अलवर (2.0), उदयपुर (3.2), जयपुर (4.0), अजमेर (4.0) और रामगंजमंडी (4.0) रहे.

चार डिग्री सेल्सियस तापमान के साथ जयपुर पिछले पांच सालों में दिसंबर में सबसे ठंडा रहा, जबकि जोधपुर में 4.4 डिग्री दर्ज किया गया, जोकि 35 सालों में सबसे कम रहा. इस बीच, मौसम विभाग ने शनिवार तक राज्य के विभिन्न हिस्सों में शीतलहर की स्थिति रहने और घने कोहरे की चेतावनी दी है. 

वहीं, सर्दी के कारण हालात ऐसे हैं कि गांव, कस्बे, शहर, रोज सुबह कोहरे की चादर में लिपटे नजर आए. वाहन चालकों को दिन में भी लाइट जलाकर वाहन चलाने पढ़ रहे है. जगह-जगह लोग अलाव जलाकर सर्दी से बचने के जतन करते देखे जा सकते. पिछले कई दिनों से तापमान जमाव बिंदु के नजदीक पहुंच गया था जो गुरुवार को माइनस 3 डिग्री पहुंच गया. तापमान माइनस 3 डिग्री पहुंचने से सर्दी बढ़ी तो बर्फ जम गई जिससे जनजीवन खासा प्रभावित हो गया है.

मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक, 'आम तौर पर ज्यादा ठंड की अवधि 5 या 6 दिनों होती है. लेकिन इस साल 13 दिसंबर से तापमान में गिरावट जारी है. यह अप्रत्याशित है. हालांकि, अब ऐसा लगता है कि 31 दिसंबर के बाद ही राहत मिल सकती है'. वैज्ञानिकों का मानना है कि 16 से 17 दिनों से अधिक समय तक इस तरह के ठंडे मौसम का होना असामान्य है. भीषण शीतलहर से राजस्थान, उत्तर प्रदेश, बिहार, हरियाणा और पंजाब में सामान्य जीवन प्रभावित हुआ है.