Rajsamand Khabar: CHC में 100 बेड संचालित कर Rajasthan में पेश किया अनूठा उदाहरण

विधायक रावत द्वारा अस्पताल में आईसीयू बेड, वेंटीलेटर, ऑक्सीजन कंसंट्रेटर, बाईपेप मशीनों के लिए 70 लाख रुपये का बजट विधायक मद से दिया. 

Rajsamand Khabar: CHC में 100 बेड संचालित कर Rajasthan में पेश किया अनूठा उदाहरण
नगरपालिका द्वारा देवगढ़ में 100 सिलेंडर प्रतिदिन उत्पादन की क्षमता वाले ऑक्सीजन प्लांट स्वीकृत कर दिया है.

Rajsamand: कोरोना संक्रमण (Corona infection) में आमजन को त्वरित उपचार देने के प्रयास में देवगढ़ (Devgarh) का सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (Community Health Center) में मौजूदा स्टाफ ने 50 सामान्य बेड के साथ 50 ऑक्सीजन और आईसीयू बेड का सफल संचालन कर राजस्थान (Rajasthan) में अनूठा उदाहरण पेश किया है. 

यह भी पढे़ं- Congress में जारी है अंतर्कलह, अब प्रतापगढ़ विधायक और जनजाति मंत्री की खटपट आई सामने

50 बेड की क्षमता वाले इस अस्पताल में भीम विधायक सुदर्शनसिंह रावत की प्रेरणा से केंद्र प्रभारी डॉ. अनुराग शर्मा पहल पर 50 अतिरिक्त ऑक्सीजन बेड शुरू कर दिए. विधायक मद से संसाधन खरीदे गए जबकि डॉक्टर, नर्सेज ने अपनी तय ड्यूटी से अतिरिक्त कार्य यह कमाल कर दिया, जहां 50 सामान्य बेड के अलावा 40 ऑक्सीजन बेड, 5 आईसीयू और 5 अत्याधुनिक बाईपेप मशीनों के बेड की व्यवस्था कर दी. 

यह भी पढे़ं- मृत समझ घर वालों ने किया अंतिम संस्कार, 10 दिन बाद वापस आकर बोला-अभी हम जिंदा हैं

देवगढ़ अस्पताल प्रबंधन के इस कार्य की जिला कलक्टर अरविंद कुमार पोसवाल ही नहीं, बल्कि चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा भी प्रशंसा कर चुके हैं. यही नहीं, चिकित्सा मंत्री इस अस्पताल को 75 बेड में क्रमोन्नत करने का आश्वसन भी दे चुके हैं.

मशीनों के लिए 70 लाख रुपये का बजट विधायक मद से दिया गया
विधायक रावत द्वारा अस्पताल में आईसीयू बेड, वेंटीलेटर, ऑक्सीजन कंसंट्रेटर, बाईपेप मशीनों के लिए 70 लाख रुपये का बजट विधायक मद से दिया. इससे संसाधनों की पूर्ति हो गई. अस्पताल प्रबंधन द्वारा 50 बेड की क्षमता वाले अस्पताल का मय 50 ऑक्सीजन, वेंटीलेटर बेड के साथ बेहतर संचालन कर पूरे राजस्थान में अनूठा उदाहरण पेश किया है.

इधर, नगरपालिका द्वारा देवगढ़ में 100 सिलेंडर प्रतिदिन उत्पादन की क्षमता वाले ऑक्सीजन प्लांट स्वीकृत कर दिया है. 65 लाख की लागत से यह प्लांट अगले 2 माह में बनकर तैयार हो जाएगा, जिससे अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी की समस्या भी नहीं रहेगी. इससे देवगढ़ और भीम क्षेत्र के लोगों को 100 से 150 किमी. दूर राजसमंद, भीलवाड़ा या ब्यावर नहीं जाना पड़ेगा.

Reporter- Laxman Singh Rathor