close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

थार एक्सप्रेस के बंद होने से हिंगलाज माता के दर्शन के लिए नहीं जा पा रहे भक्त, कहा...

थार एक्सप्रेस से पिछले 13 सालों से लगातार हिंगलाज माता के दर्शन के लिए जाने वाले उपवासकों का इस बार सिलसिला टूट गया है. लगातार जाने वाले भक्तों को इस बार हिंगलाज माता के दर्शन नहीं करने का मलाल है

थार एक्सप्रेस के बंद होने से हिंगलाज माता के दर्शन के लिए नहीं जा पा रहे भक्त, कहा...
13 सालों से लगातार हिंगलाज माता के दर्शन के लिए जाने वाले उपवासकों का ट्रेन बंद होने से ये सिलसिला टूट गया है.

भूपेश आचार्य, बाड़मेर भारत-पाक संबंधों में तनाव के चलते बंद हुई थार एक्सप्रेस के कारण हिंगलाज के भक्त इस बार शारदीय नवरात्र में पाक नहीं जा पा रहे है. नवरात्र में राजस्थान, गुजरात, मध्यप्रदेश, केरल सहित अन्य राज्यो के हिंगलाज माता के उपासक पाकिस्तान के बलूचिस्तान में शक्तिपीठ के दर्शन करने के लिए पिछले 13 वर्षों से लगातार जा रहे हैं.

हिंगलाज के भक्तों के लिए थार एक्सप्रेस सरल और सुगम साधन रहा है. नवरात्र में शक्तिपीठ के दर्शन करने के लिए इसी ट्रेन से आना-जाना होता था लेकिन इस साल थार एक्सप्रेस बंद है. ऐसे में भक्त शारदीय नवरात्र में हिंगलाज शक्तिपीठ नहीं जा पाए. जिससे उन्हें बहुत ही मलाल है. 

उपासक बताते हैं कि पाक स्थित हिंगलाज माता के दर्शन करने के लिए पूर्व वित्त एवं विदेश मंत्री जसवंतसिंह के साथ गए थे. उसके बाद लगातार 13 सालो से हिंगलाज माता के दर्शन के लिए जाते हैं लेकिन इस बार भारत-पाक के सम्बन्धो में तनाव के चलते थार एक्सप्रेस का संचालन नहीं किया जा रहा है. जिससे मां के दर्शन करने से वंचित रह गए हैं जिसका मलाल है.

थार एक्सप्रेस से पिछले 13 सालों से लगातार हिंगलाज माता के दर्शन के लिए जाने वाले उपवासकों का इस बार सिलसिला टूट गया है. लगातार जाने वाले भक्तों को इस बार हिंगलाज माता के दर्शन नहीं करने का मलाल है. नवरात्र शुरू होने से पहले उपासक इसी ट्रेन से हिंगलाज के लिए रवाना हो जाते थे. वहीं मंदिर में अनुष्ठान में शामिल होते तथा वापसी भी थार एक्सप्रेस से करते थे. साप्ताहिक चलने वाली थार एक्सप्रेस के संचालन के अनुसार ही हिंगलाज भक्त अपने आने-जाने का कार्यक्रम बनाते थे.

दरअसल, थार एक्सप्रेस बंद होने हिंगलाज माता के दर्शन के लिए जाने वाले उपवासको का ही सिलसिला नहीं टुटा है बल्कि सिंध और हिन्द के रोटी और बेटी का जो नाता था वो भी कट गया है. लोग अपनों से मिलने के लिए थार एक्सप्रेस के पुन शुरू होने की उम्मीद की टकटकी लगाए हुए हैं.