जिसने महाकाल मंदिर में विकास दुबे को पहचाना, जानें पूरी कहानी उसी गार्ड की जुबानी

विकास दुबे ने मंदिर के पीछे वाले गेट से अंदर घुसने की कोशिश की थी.

जिसने महाकाल मंदिर में विकास दुबे को पहचाना, जानें पूरी कहानी उसी गार्ड की जुबानी
Play

उज्जैन: कानपुर एनकाउंटर (Kanpur Encounter) का मास्टरमाइंड विकास दुबे मंदिर पहुंच कर भी महाकाल के दर्शन नहीं कर पाया. जिस सिक्योरिटी गार्ड ने उज्जैन महाकाल मंदिर परिसर से कानपुर के कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे को गिरफ्तार करवाया उसकी पूरी कहानी उसी गार्ड की जुबानी जानिए.

सिक्योरिटी गार्ड लखन यादव ने बताया कि विकास सुबह 7 बजे मंदिर में आया था. उसने मंदिर के पीछे वाले गेट से अंदर आने की कोशिश की थी. हम लोगों को विकास दुबे संदिग्ध लगा तो पुलिस को सूचना दी. हम लोग पहले से ही विकास दुबे की फोटो तो देख ही रहे थे इसीलिए पहचान लिया.

सिक्योरिटी गार्ड ने बताया कि विकास दुबे भगवान महाकाल के दर्शन नहीं कर पाया वो मंदिर में दर्शन करने जा रहा था लेकिन पहले ही पुलिस ने उसे पकड़ लिया.

ये भी पढ़ें- उज्जैन से गिरफ्तार हुआ विकास दुबे, देखिए Super Exclusive PHOTOS

विकास दुबे की गिरफ्तारी के बारे में जानकारी देते हुए उत्तर प्रदेश के एडीजी (कानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने कहा, 'जल्द ही सारे आरोपी गिरफ्तार किए जाएंगे. सभी न्यायिक प्रक्रिया का पालन करें. दबाव में विकास की गिरफ्तारी के बारे में कोई जानकारी नहीं है'

बता दें कि विकास दुबे के दो साथी आज एनकाउंटर में ढेर हो गए. प्रभात मिश्रा पुलिस हिरासत से भागने की कोशिश कर रहा था, जिसके बाद एनकाउंटर में उसे ढेर कर दिया गया. प्रभात मिश्रा को बुधवार को फरीदाबाद से गिरफ्तार किया गया था. इसके अलावा विकास दुबे गैंग का एक और मोस्ट वांटेड क्रिमिनल बउवा दुबे भी इटावा में ढेर हो गया.