close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: विदेशों में ठगी की वारदात को देते थे अंजाम, 25 लोग गिरफ्तार

फर्जी कॉल सेंटर का मुख्य संचालक मदीप सिंह है जो अन्य साथियों की सहायता से जयपुर में कॉल सेंटर संचालित कर करोड़ों रूपयों की ठगी कर रहा था.

जयपुर: विदेशों में ठगी की वारदात को देते थे अंजाम, 25 लोग गिरफ्तार
फर्जी कॉल सेंटर का मुख्य संचालक मदीप सिंह है.

जयपुर: जयपुर पुलिस ने फर्जी कॉल सेंटर्स पर छापा मार कर 25 लोगों को गिरफ्तार किया है. ये लोग जयपुर में बैठकर विदेशों में फोन करते थे और पैसा कमाने के लिए लोन दिलाने या टैक्स जमा नहीं कराने सरीखे अलग-अलग तरीकों से लोगों को डराते थे. झांसे में आने के बाद लोगों से लाखों रूपए की ठगी को अंजाम देते थे.

राजस्थान की राजधानी जयपुर में लंबे समय से इंटरनेशनल कॉल सेंटर के जरिए लोगों को ठग रहे गिरोह का पुलिस ने पर्दाफाश किया है. इंटेलीजेंस की सूचना पर कार्रवाई करते हुए जयपुर पुलिस कमिश्नरेट की ईस्ट और वेस्ट जिला पुलिस ने साइबर सैल की सहायता से इस कार्रवाई को अंजाम दिया है. 

मामले का खुलासा करते हुए एडिश्नल पुलिस कमिश्नर क्राइम संतोष कुमार चालके ने बताया कि शहर के अलग अलग थाना इलाकों में दबिश देकर 2 फर्जी इंटरनेशनल कॉल सेंटरों का पर्दाफाश कर 25 लोगों को गिरफ्तार किया है. फर्जी कॉल सेंटर का मुख्य संचालक मदीप सिंह है जो अन्य साथियों की सहायता से जयपुर में कॉल सेंटर संचालित कर करोड़ों रूपयों की ठगी कर रहा था.

हाईटेक इलैक्ट्रॉनिक गैजेट्स से करते थे विदेशों में कॉल
पुलिस की मानें तो ये गैंग जयपुर के ईस्ट वेस्ट जिले के अलावा अन्य कई स्थानों पर फर्जी इंटरनेशनल कॉल सेंटर संचालित कर विदेशों में कॉल कर ठगी को अंजाम दे रहे थे. इंटेलीजेंस से मिले इनपुट के जरिए जयपुर पुलिस कमिश्नरेट ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया. पुलिस ने इस गैंग से लाखों रूपए की नकदी के साथ ही बड़ी मात्रा में कंप्यूटर, लैपटॉप समेत अन्य इलैक्ट्रॉनिक गैजेट्स भी बरामद किए हैं. इन इलैक्ट्रॉनिक गैजेट्स का इस्तेमाल फर्जी कॉल सेंटर में विदेशों में कॉल करने के लिए हो रहा था.

विदेशी नागरिकों का डाटा अवैध रूप से बनाते थे शिकार
मामले का खुलासा करते हुए एडिश्नल पुलिस कमिश्नर संतोष चालके ने बताया कि इस शातिर गैंग ने कॉल सेंटर्स से विदेशी नागरिकों का डाटा अवैध रूप से लेकर उन्हें अपना शिकार बनाया. गैंग के सदस्य कॉल सेंटर से अमेरिका, चीन, हांगकांग समेत अन्य देशों में लोगों को कॉल पर लोन दिलाने या टैक्स जमा नहीं कराने सरीखे अलग अलग कारण बताते हुए लोगों के मन में इस तरह का खौफ बैठा देते जैसे कि अगर उन लोगों ने इनकी बातें नहीं मानी तो उनका बड़ा आर्थिक नुकसान हो सकता है. लोगों को अपने झांसे में लेकर वेस्टर्न यूनियन, आई ट्यून, गिफ्ट कॉर्ड, मनीग्राम या बिटकॉईन के रूप में उनसे मोटी रकम ऐंठ लेते थे.

ऑनलाइन ठगी की वारदातों को लेकर पुलिस को यह बड़ी सफलता हाथ लगी है. माना जा रहा है कि जल्द ऐसे मामलों में कुछ और गिरफ्तारियां हो सकती है. ऐसे में राजधानी से संचालित हो रहे ठगी के इन कॉल सेंटर्स की जयपुर पुलिस को भनक तक नहीं लगने से पुलिस की कार्यशैली पर भी सवाल खड़े हो रहे है.