close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महाराष्ट्र: शहीदों के बच्चों की पढ़ाई का पूरा खर्च उठाएगा सिद्धिविनायक ट्रस्ट, अपने मन से चुन सकेंगे स्कूल

सिद्धिविनायक ट्रस्ट ने ऐलान किया है कि वो महाराष्ट्र के शहीदों के बच्चों की पूरी पढ़ाई का खर्च उठाएगा. ट्रस्ट का कहना है कि बच्चों की के.जी. क्लास से लेकर पोस्ट ग्रेजुएशन तक की पढ़ाई का खर्च अब उनके द्वारा उठाया जाएगा. 

महाराष्ट्र: शहीदों के बच्चों की पढ़ाई का पूरा खर्च उठाएगा सिद्धिविनायक ट्रस्ट, अपने मन से चुन सकेंगे स्कूल
खास बात ये है कि बच्चे अपनी पसंद के स्कूल या संस्थान में पढ़ने के लिए स्वतंत्र होंगे.

मुंबई: पूरा देश आज 20वां करगिल विजय दिवस मना रहा है. इस मौके पर हर कोई अपने-अपने तरीके से शहीदों को नमन कर रहा है. इसी कड़ी में मुंबई के प्रसिद्धि सिद्धिविनायक मंदिर ने भी अपनी तरफ से मदद देने का ऐलान किया है. सिद्धिविनायक ट्रस्ट ने ऐलान किया है कि वो महाराष्ट्र के शहीदों के बच्चों की पूरी पढ़ाई का खर्च उठाएगा. ट्रस्ट का कहना है कि बच्चों की के.जी. क्लास से लेकर पोस्ट ग्रेजुएशन तक की पढ़ाई का खर्च अब उनके द्वारा उठाया जाएगा. 

शहीद के बच्चों को बप्पा का आशीर्वाद
सिद्धिविनायक ट्रस्ट के ट्रस्टी आदेश बांदेकर ने ज़ी मीडिया से कहा, 'आज ट्रस्टियों की एक बैठक हुई थी, जिसमें फैसला लिया गया कि महाराष्ट्र से सेना के जो जवान शहीद हुए हैं उनके बच्चों की पूरी शिक्षा का खर्च ट्रस्ट की तरफ से उठा जाएगा.' उन्होंने कहा, एक तरह से यह शहीदों के बच्चों को गणपति बप्पा का आशीर्वाद होगा.

ट्रस्ट को सरकार की मंजूरी का है इंतजार
खास बात ये है कि बच्चे अपनी पसंद के स्कूल या संस्थान में पढ़ने के लिए स्वतंत्र होंगे. इस बारे में ट्रस्ट की तरफ से एक प्रस्ताव महाराष्ट्र सरकार को भेजा गया है. सरकार की मंजूरी का फिलहाल इंतज़ार है. इस मौके पर सिद्धिविनायक ट्रस्ट की तरफ से पुणे की क्वीन्स मेरी संस्था को 25 लाख रुपए का चेक भी दिया गया. ये संस्था शहीदों के परिजनों की भलाई के लिए काम करती है.

गौरतलब है कि मुंबई के प्रसिद्धि सिद्धिविनायक मंदिर के दर्शन के लिए रोजाना हजारों लोग आते हैं. इनमें सेलिब्रिटीज और कई हस्तियां भी होती है. इनसे मंदिर को साल भर में करोड़ों रुपये का चढ़ावा मिलता है. इसमें से एक बड़े हिस्से का उपयोग सामाजिक कार्यों के लिए किया जाता है.