ये चाय वाला है कुछ हटके: खुद PM पहुंचे थे इनसे मिलने, अब मिला इतना बड़ा सम्मान

उन्हें चाय बेचकर जो पैसा मिलता है, उसका बड़ा हिस्सा समाज सेवा में लगा देते हैं, जिसके चलते कटक और आस-पास के इलाकों के लोग उनका काफी सम्मान करते हैं.

ये चाय वाला है कुछ हटके: खुद PM पहुंचे थे इनसे मिलने, अब मिला इतना बड़ा सम्मान
कटक में पिछले 67 सालों से चाय बेच रहे हैं डी प्रकाश राव (फोटो साभारः facebook)

नई दिल्लीः गणतंत्र दिवस के एक दिन पहले ही देश के महत्वपूर्ण सम्मान 'पद्म पुरस्कारों' की घोषणा की गई है, जिसमें देश की 4 हस्तियों को पद्म विभूषण, 14 को पद्म भूषण और 94 को पद्मश्री से सम्मानित किया जाएगा. वहीं पद्मश्री पाने वालों में एक ऐसे व्यक्ति का नाम है जिसके बारे में कम ही लोग जानते हैं, लेकिन अपनी जिंदगी में वह जो काम कर रहे हैं, जो किसी मिसाल से कम नहीं है. ये हैं ओडिशा के कटक के रहने वाले डी प्रकाश राव. डी प्रकाश पिछले 67 सालों से चाय बेचने का काम कर रहे हैं, लेकिन उन्हें चाय बेचकर जो पैसा मिलता है, उसका बड़ा हिस्सा समाज सेवा में लगा देते हैं, जिसके चलते कटक और आस-पास के इलाकों के लोग उनका काफी सम्मान करते हैं.

पद्म सम्मान: पद्म विभूषण से नवाजी जाएंगी ये तीन विभूतियां

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी डी प्रकाश राव के काम से इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने उनसे मुलाकात भी की. 30 मई 2018 को पीएम मोदी ने मन की बात में डी प्रकाश के बारे में बताते हुए कहा कि 'मुझे आज ओडिशा स्थित कटक के एक चाय बेचने वाले डी प्रकाश राव से मुलाकात का मौका मिला. वह पिछले 5 दशक से चाय बेच रहे हैं, लेकिन वह जो काम कर रहे हैं उसके बारे में जानकर आप सभी हैरान रह जाएंगे. वह ऐसे 70 से भी अधिक बच्चों को पढ़ाने का काम कर रहे हैं, जो खराब आर्थिक स्थिति के चलते स्कूल नहीं जा पाते. यही नहीं, उन्होंने अपनी झुग्गी में ही आशा आश्वासन खोला है, जिसमें वह ऐसे लोगों को सहारा दे रहे हैं, जिनके पास अपना घर नहीं है.'
Padma Shri to Tea Man, D Prakash Rao Of Cuttack

राजस्थान: पद्मश्री महाराज नारायण दास जी के अंतिम दर्शन के लिए उमड़ा जन सैलाब

बता दें प्रकाश राव पिछले 67 सालों से चाय बेच रहे हैं और अपनी कमाई का बड़ा हिस्सा गरीब बच्चों को पढ़ाने में लगा देते हैं. राव एक स्कूल भी चलाते हैं, जहां जाकर वह झुग्गी के बच्चों को मुफ्त में पढ़ाते हैं और स्कूल के बाद वह रोज अस्पताल जाते हैं, जहां वह अस्पताल में मरीजों और उनके परिजनों की सेवा करते हैं और गर्म पानी पहुंचाते हैं. बता दें यह डी प्रकाश राव का नियमित काम है. इसके अलावा वह जरूरत पड़ने पड़ रक्तदान भी करते हैं. वहीं कभी स्कूल न जाने के बाद भी वह हिंदी और इंग्लिश काफी अच्छे से बोल लेते हैं, जिसके कारण वह बच्चों को भी अच्छे से पढ़ा पाते हैं. यही कारण है कि आज उनका नाम ऐसी हस्तियों में शामिल है, जिन्हें देश के महत्वपूर्ण पुरस्कार से सम्मानित किया जा रहा है.