close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: संविधान दिवस पर कार्यक्रमों का होगा आयोजन, दिए गए जरुरी निर्देश

इस संबंध में केंद्रीय कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने वीसी के जरिए इसके बारे में आज मुख़्य सचिवों को निर्देश दिए.

जयपुर: संविधान दिवस पर कार्यक्रमों का होगा आयोजन, दिए गए जरुरी निर्देश
26 नवंबर 2019 से 14 अप्रैल 2020 तक कई कार्यक्रम होंगे. (प्रतीकात्मक फोटो)

जयपुर: 26 नवंबर को संविधान दिवस(Constitution Day) है. इस दिन से 14 अप्रैल तक कई कार्यक्रमों का आयोजन देशभर में होगा. इस संबंध में केंद्रीय कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने वीसी के जरिए इसके बारे में आज मुख़्य सचिवों को निर्देश दिए. इस दौरान 26 नवंबर को संभव होने पर सभी राज्यों के विशेष विधानसभा का सत्र बुलाकर बड़ा कार्यक्रम करने का भी सुझाव दिया गया है.

केंद्रीय कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने वीसी के जरिए राज्यों के मुख्य सचिवों या प्रतिनिधियों से रूबरू होकर संविधान दिवस के बारे में विशेष दिशा निर्देश दिए. वीसी में प्रदेश के मुख्य सचिव डीबी गुप्ता भी शामिल हुए. 

दरअसल हर वर्ष 26 नवंबर को संविधान दिवस इसलिए मनाया जाएगा कि इस दिन 1950 में संविधान को अपनाया गया था. जबकि 14 अप्रैल को संविधान निर्माता डॉ अंबेडकर जयंती है. 

वीसी में ये दिशा निर्देश दिए गए
26 नवंबर 2019 से 14 अप्रैल 2020 तक कई कार्यक्रम होंगे. इस दौरान स्कूल्स व सरकारी भवनों में प्रतिज्ञा ली जाएगी, ग्राम सभाओं में भी प्रतिज्ञा दिलवाई जाएगी. महिला व बाल विकास विभाग को निर्देश देकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं व स्वयंसहायता समूहों को प्रतिज्ञा और संकल्प दिलाएगा.

मौलिक कर्तव्यों पर  विशेष फोकस रखते हुए 11 मौलिक कर्तव्यों पर केंद्र 11 वीडियो फिल्म्स बनाकर राज्यों को भेजेगा. जिनका पिक्चर हॉल्स व अन्य जगहों पर प्रदर्शन किया जाएगा. इसके अलावा पर्यटन विभाग दौड़ और अन्य गतिविधियों में शामिल है. 

उधर, केंद्र ने राज्यों को यह सुझाव भी दिया है कि 26 नवंबर को विधानसभा का विशेष सत्र आहूत करके कार्यक्रमों की श्रृंखला की शुरुआत करे. 

मुख्य सचिव डी बी गुप्ता अगले सप्ताह इसके लिए सभी विभागों के अतिरिक्त मुख्य सचिवों या प्रमुख सचिवों या सचिवों की बैठक लेकर 4 माह तक के कार्यक्रम तय करेंगे. प्रदेश में इसका नोडल विभाग भी तय होना है. जबकि केंद्र में इसका नोडल विभाग केंद्रीय न्याय मंत्रालय है.