close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कश्मीर घाटी से लद्दाख तक हो सकती है बर्फबारी, मौसम विभाग ने जारी की एडवाइजरी

 मौसम विभाग के मुतबिक जम्मू कश्मीर से लेकर लद्दाख तक बारिश और बर्फबारी हो सकती है. बारिश और बर्फबारी के चलते कश्मीर को देश से जोड़ने वाले सभी राजमार्गों के बंद होने की भी संभावना है. प्रशासन ने लोगों को सतर्क रहने की सलाह दी है. कश्मीर मौसम विभाग ने 6 से 8 नवम्बर के लिए भीषण बर्फबारी की एडवाइजरी जारी की है.

कश्मीर घाटी से लद्दाख तक हो सकती है बर्फबारी, मौसम विभाग ने जारी की एडवाइजरी
फाइल फोटो

श्रीनगर: मौसम विभाग के मुतबिक जम्मू कश्मीर से लेकर लद्दाख तक बारिश और बर्फबारी हो सकती है. बारिश और बर्फबारी के चलते कश्मीर को देश से जोड़ने वाले सभी राजमार्गों के बंद होने की भी संभावना है. प्रशासन ने लोगों को सतर्क रहने की सलाह दी है. कश्मीर मौसम विभाग ने 6 से 8 नवम्बर के लिए भीषण बर्फबारी की एडवाइजरी जारी की है.

विभाग के डेप्युटी डाइरेक्टर मुख्तार अहमद ने बताया कि "मौसम को ध्यान में रखते हुए हमने यह एडवाइजरी जम्मू, कश्मीर और लद्दाख के लिए जारी की है. उन्होंने बताया कि इसके चलते 6 नवम्बर की रात से मौसम बिगड़ने की संभावना है जोकि 7 नवम्बर देर रात तक रहेगा. विभाग के अनुसार इस बर्फबारी के चलते ज़ोजिला पास, श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग, लेह-मनाली राजमार्ग, मुगल रोड आदि अस्थायी रूप से बंद हो सकते हैं. पहाड़ी इलाकों में भारी बर्फबारी और मैदानी इलाकों में बारिशों के चलते तापमान में गिरावट दर्ज हो सकती है. "

इतना ही नहीं उन्होंने यह भी बताया कि अभी भी कई जगहों पर सेब के बगीचों में सेब पेड़ों पर अभी भी हैं और किसानों को यह सलाह दी जाती है कि जितना जल्दी हो सके उतार लें ताकि इस बर्फबारी से कम से कम नुकसान हो.

विभाग के मुताबिक पश्चिमी हवाओं का टकराव अरब सागर में चल रहे "माहा साइक्लोन"  के साथ होने के कारण उसका प्रभाव जम्मू कश्मीर पर भी हो रहा हैं. 

गौरतलब है कि जोजिला पास जोकि श्रीनगर-लेह राजमार्ग पर 11,575 फीट की ऊंचाई पर स्थित है पर आबी तक दो बार हल्की बर्फबारी हो चुकी है और हर साल यह 434 किलोमीटर लम्बा श्रीनगर-लेह राजमार्ग भारी बर्फबारी के चलते करीब 5 महीनों के लिए बंद रहता है जिसके चलते लद्दाख संभाग के लोग राज्य के अन्य हिस्सों से कट कर रह जाते हैं.

मौसम विभाग की चेतावनी ने सरकार को भी अवगत किया हैं और वह वो भी इस बिगड़ते मौसम के लिए तैयारी में जुटे हैं वहीं आम लोगों को भी सलाह दी गई हैं की वह सतर्कता बरते और किसी भी एडवेंचर से दूर रहे क्योंकि अगर बर्फ भारी हुई तो पहाड़ी इलाकों में हिमस्खलन का खतरा भी बढ़ जाता हैं. प्रसाशन ने कश्मीर के सभी जिला कमिश्नरों को एडवाइजरी के चलते हर तरह तैयार रहने के लिए निर्देश जारी किया हैं. 

वहीं कश्मीर को जम्मू संभाग के पुंछ-राजौरी के साथ जोड़ने वाली मुग़ल रोड पर इस सीजन की पहली बर्फबारी मंगलवार को देखने को मिली. दक्षिणी कश्मीर के शोपियां ज़िले के ऊपरी इलाकों सहित मुग़ल रोड पर सबसे ऊंचे पॉइंट पीर की गली में हल्की बर्फबारी दोपहर को शुरू हुई और कुछ देर तक हुई इस बर्फबारी के चलते चारो ओर बर्फ की सफ़ेद चादर बिछी दिखाई दी जिससे खूबसूरती में चार चंद लग गए.