Sushant Suicide Case: बिहार के DGP ने कहा, 'रिया चक्रवर्ती का पता नहीं लग रहा'

रिया का नाम सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में दर्ज प्राथमिकी में है.वहीं पटना से जांच मुंबई स्थानांतरित कराने की रिया की याचिका पर उच्चतम न्यायालय में पांच अगस्त को सुनवाई होगी.

Sushant Suicide Case: बिहार के DGP ने कहा, 'रिया चक्रवर्ती का पता नहीं लग रहा'
डीजीपी बिहार गुप्तेश्वर पांडेय

नई दिल्ली: बिहार (Bihar) के डीजीपी (DGP) ने कहा है कि अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती (Riya Chakravarthi) कहां है इसकी जानकारी उनकी पुलिस को अभी तक नहीं लग पाई है. डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा, 'हम उनका (रिया का) पता नहीं लगा पा रहे. हम उन्हें खोजने की कोशिश कर रहे हैं.' गौरतलब है कि रिया का नाम सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में दर्ज प्राथमिकी में है.

वहीं पटना से जांच मुंबई स्थानांतरित कराने की रिया की याचिका पर उच्चतम न्यायालय में पांच अगस्त को सुनवाई होगी. उनसे पूछा गया था कि क्या बिहार पुलिस ने रिया से मिलने और बात करने के लिए उन्हें कोई नोटिस भेजा है, या रिया के खिलाफ कोई लुकआउट नोटिस जारी किया गया है, या बिहार पुलिस उन्हें गिरफ्तार करने की कोशिश कर रही है तो उन्होंने कहा, 'यह जांच का शुरुआती स्तर है.'

ये भी पढ़ें: सुशांत सिंह राजपूत केस: बिहार पुलिस ने निर्देशक रूमी जाफरी से की 4 घंटे तक पूछताछ

CBI जांच की मांग पर बिहार DGP की राय-

DGP ने कहा कि वो सुशांत सिंह राजपूत को न्याय दिलाने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे, मामले की सीबीआई जांच की बढ़ती मांग के बीच पांडेय ने भी कहा कि जब राज्य पुलिस मामले में जांच करने में पूरी तरह सक्षम है तो केंद्रीय एजेंसी से जांच की मांग क्यों की जाए.

हालांकि उन्होंने कहा कि अगर राजपूत के पिता बिहार पुलिस की जांच से असंतुष्ट रहते हैं तो वह सीबीआई जांच के लिए कह सकते हैं.

बिहार पुलिस की चार सदस्यीय टीम रिया चक्रवर्ती और 6 अन्य के खिलाफ पटना में दर्ज प्राथमिकी ( FIR) की जांच के सिलसिले में बुधवार से मुंबई में मौजूद है. राजपूत के पिता कृष्ण कुमार सिंह ने अपने बेटे को आत्महत्या के लिए उकसाने की शिकायत मंगलवार को दर्ज कराई थी.

बिहार और महाराष्ट्र सरकार में एक राय नहीं-

बिहार विधानसभा चुनाव से पहले राज्य सरकार और महाराष्ट्र सरकार के बीच भी मामले में जांच को लेकर एकराय नहीं है, इस बीच भाजपा नेता और बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर निशाना साधा.

उन्होंने ट्वीट में लिखा कि, 'उद्धव ठाकरे कांग्रेस-पोषित बॉलीवुड माफिया के दबाव में हैं, इसलिए सुशांत मामले में जिम्मेदार सभी तत्वों को बचाने पर तुले हैं. कांग्रेस बिहार की जनता को क्या मुँह दिखायेगी?'

सुशील मोदी ने कहा, 'राज्य सरकार सुशांत को न्याय दिलाने के लिए किसी भी हद तक जाएगी.' वहीं ठाकरे ने शुक्रवार को कहा था कि वह अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की जांच करने में मुंबई पुलिस की दक्षता पर सवाल उठाये जाने की कोशिशों की निंदा करते हैं.

पटना में बिहार के जल संसाधन मंत्री और नीतीश कुमार के करीबी संजय कुमार झा ने कहा कि मुख्यमंत्री और उनकी सरकार अभिनेता के परिवार को न्याय दिलाने के लिए प्रतिबद्ध हैं और उसके लिए हर तरह के कदम उठाए जाएंगे.

उन्होने कहा कि अगर राजपूत का परिवार सीबीआई जांच की मांग करता है तो मुख्यमंत्री निश्चित रूप से कार्रवाई करेंगे. झा ने कहा कि लोग चाहते हैं कि सच्चाई बाहर आए और जो लोग दोषी पाए जाएं उन्हें दंडित किया जाए. 

कहां तक छानबीन कर चुकी है बिहार पुलिस - 
शनिवार को बिहार पुलिस की टीम बांद्रा थाने पहुंची थी, यह पूछने पर कि क्या राजपूत की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती से पूछताछ की जाएगी तो बिहार पुलिस के एक अधिकारी ने कहा, 'अभी तक इसकी जरूरत नहीं है.लेकिन हमारी उन पर नजर है.'

जांच दल में शामिल एक अन्य सदस्य ने कहा कि सीआरपीसी की संबंधित धाराओं के तहत उन्होंने रिया को नोटिस भेजा है और उससे पुलिस जांच में सहयोग करने के लिए कहा है.

मुंबई पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि दौरे पर आई टीम ने जांच के तहत छह लोगों के बयान दर्ज किए हैं. अभी तक बिहार की पुलिस ने अभिनेता के दोस्तों, सहकर्मियों और रिश्तेदारों से मुलाकात की है. उन्होंने छह लोगों में वर्सोवा में रहने वाली राजपूत की बहन, पूर्व महिला मित्र अंकिता लोखंडे, एक रसोइया, उनके दोस्तों और सहकर्मियों के बयान दर्ज किए हैं.

उन्होंने कहा कि पुलिस टीम राजपूत के कर्मचारियों से भी पूछताछ कर सकती है.अधिकारी ने कहा, 'उन्होंने राजपूत के विभिन्न बैंक खातों की जानकारी जुटाई और वित्तीय लेन-देन देखने के लिए बैंक भी गए.'

 

सुप्रीम कोर्ट पर टिकी सभी की निगाहें- 

उच्चतम न्यायालय की वेबसाइट पर अपलोड सूची के मुताबिक प्राथमिकी स्थानांतरित करने की रिया चक्रवर्ती की तरफ से दायर याचिका पर बुधवार को न्यायमूर्ति हृषिकेश रॉय की पीठ के समक्ष सुनवाई होगी.

चक्रवर्ती की याचिका पर कोई भी आदेश पारित होने से पहले अपना पक्ष सुने जाने के लिए उच्चतम न्यायालय में बिहार और महाराष्ट्र की सरकारों ने पहले ही अलग-अलग कैविएट दायर कर रखे हैं. दिवंगत अभिनेता के पिता ने भी उच्चतम न्यायालय में कैविएट दायर किया हुआ है.

कैविएट एहतियातन कानूनी कार्रवाई होती है जिसमें सुनिश्चित किया जाता है कि दूसरे पक्ष को सुने बगैर पहले पक्ष के समर्थन में फैसला नहीं सुनाया जाए.

रिया चक्रवर्ती ने उच्चतम न्यायालय में दायर याचिका में आरोप लगाया है कि राजपूत के पिता ने अपने प्रभाव का इस्तेमाल कर उनका नाम मामले में घसीट दिया और अपने बेटे की आत्महत्या के लिए उन पर आरोप लगाया है.

डीजीपी पांडेय ने कहा कि मुंबई पुलिस दौरे पर गई बिहार पुलिस का सहयोग कर रही है, जबकि इस तरह की खबरें आई थीं कि बिहार पुलिस और स्थानीय पुलिस के बीच खींचतान चल रही है.

ये भी देखें-