कोरोना संभावित तबलीगी जमात के सदस्यों का उत्पात, बचाव कार्य में लगे लोगों के साथ शर्मनाक हरकत

बचाव में लगे लोगों के खिलाफ ही अभद्र व्यावहार शुरू कर दिया है

कोरोना संभावित तबलीगी जमात के सदस्यों का उत्पात, बचाव कार्य में लगे लोगों के साथ शर्मनाक हरकत
फाइल फोटो

नई दिल्ली: तबलीगी जमात के सदस्य अब बचाव दलों के लिए मुसीबत बनते जा रहे हैं. कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण से बचाने वाले लोगों के खिलाफ ही तबलीगी जमात सदस्य घिनौने काम कर रहे हैं. कोरोना वायरस संक्रमण का खतरा देखते हुए निजामुद्दीन इलाके से तुगलकाबाद के क्वॉरेंटाइन सेंटर पर पहुंचाए गए लोगों ने उनकी सेवा और बचाव में लगे लोगों के खिलाफ ही अभद्र व्यावहार शुरू कर दिया है. इनके इस घिनौनी हरकत से अब खुद बचाव दल के सदस्यों में कोरोना वायरस संक्रमण का खतरा बढ़ गया है.

उत्तर रेलवे के सीपीआरओ दीपक कुमार के मुताबिक निजामुद्दीन इलाके से तबलीगी जमात के 167 लोग मंगलवार रात निजामुद्दीन इलाके से तुगलकाबाद के क्वॉरेंटाइन सेंटर पर पहुंचाए गए. इन्हें रेलवे की डीजल ट्रेनिंग के स्कूल में बने क्वॉरेंटाइन सेंटर और आरपीएफ के बैरक में बने क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखा गया है. लेकिन क्वॉरेंटाइन किए गए लोगों ने वहां पहुंचकर बाद में ना सिर्फ ड्यूटी पर तैनात स्वास्थ्य कर्मियों के साथ दुर्व्यवहार किया बल्कि कई अव्यावहारिक मांगे भी की.

स्वास्थ्य कर्मचारियों पर थूक रहे हैं 
दीपक कुमार के मुताबिक इन लोगों ने क्वॉरेंटाइन सेंटर पर जगह जगह थूकना शुरू कर दिया. यहां तक कि जो लोग ड्यूटी पर तैनात थे स्वास्थ्य कर्मचारी उनके साथ दुर्व्यवहार करते हुए उनमें से एक स्वास्थ्य कर्मी पर भी इसी तरह थूका गया. स्वास्थ्य कर्मियों की बार-बार मनाही के बावजूद हॉस्टल के बाहर देर रात तक यह लोग घूमते रहे. जिन लोगों ने इनको मना करने की कोशिश की उनके साथ गाली-गलौज की घटना को भी इन लोगों ने अंजाम दिया.

ये भी पढ़ें: EMI पर आप भी चाहते हैं तीन महीने की राहत? हम बता रहे हैं छिपे हुए ‘नियम व शर्तें’ जो बचा सकते हैं नुकसान से

बताते चलें कि निजामुद्दीन से निकलकर तबलीगी जमात के जिन लोगों ने कुछ दिन पहले ही ट्रेनों से दक्षिण भारत के कई राज्यों का सफर किया है उन ट्रेनों में इनके साथ जिन यात्रियों ने सफर किया है उनको संक्रमण का खतरा बढ़ गया है लिहाजा रेलवे अब उन ट्रेनों को चिन्हित कर रहा है जो 1 सप्ताह पहले ही जिनके जरिए तबलीगी जमात के कई समूहों ने अलग-अलग राज्यों में यात्रा की है.