जल्द ही आप तिरुमाला म्यूजियम में 3डी वर्चुअल गैलरी में करेंगे तिरुपति बालाजी के दर्शन

तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (TTD) जल्द ही तिरुमाला म्यूजियम में 3डी वर्चुअल गैलरी ला रहा है जिसमें श्रद्धालु तिरुपति बालाजी के दर्शन कर सकेंगे.  

जल्द ही आप तिरुमाला म्यूजियम में 3डी वर्चुअल गैलरी में करेंगे तिरुपति बालाजी के दर्शन
इस प्रोजेक्ट की लागत 8 करोड़ बताई जा रही है जिसका खर्च एक सॉफ्टवेयर कंपनी 'मैप सिस्टम्स' उठाएगी.

तिरुमाला: तिरुमाला (Tirumala)  विश्व का सबसे बड़ा और सबसे समृद्ध तीर्थस्थल है जहां पर हर साल करोड़ों की संख्या में पूरी दुनिया से श्रद्धालु आते हैं. अनुमान के मुताबिक, हर दिन यहां एक लाख लोग दर्शन के लिए आते हैं. भारी भीड़ के बीच पूरे 48 घंटे तक श्रद्धालु दर्शन के लिए इंतजार करते हैं. तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (Tirumala Tirupati Devasthanam) ने श्रद्धालुओं से अपील की और उनके लिए टाइम स्लॉट दिया है जिसमें वह स्थानीय मंदिरों के दर्शन कर सकते हैं. 

इसी तर्ज पर, टीटीडी जल्द ही तिरुमाला म्यूजियम में आपके लिए 3डी वर्चुअल गैलरी ला रहा है जिसमें श्रद्धालु तिरुपति बालाजी के दर्शन कर सकेंगे. इस प्रोजेक्ट की लागत 8 करोड़ बताई जा रही है जिसका खर्च बैंगलुरू की एक सॉफ्टवेयर कंपनी 'मैप सिस्टम्स' उठाएगी. टीटीडी के कार्यकारी अधिकारी अनिल कुमार सिंघल ने ज़ी मीडिया को बताया कि पहले चरण की शुरुआत 30 सितंबर (ब्रह्मोत्सव) से होगी.  

यह गैलरी ग्राउंड फ्लोर लगभग 24,750 वर्ग फुट में होगी. पहले चरण में तकनीकी की तीन विभिन्न प्रकार की थीम का अनुभव मिलेगा. इसमे श्रद्धालुओं को ऐसा अनुभव मिलेगा जैसे वह मंदिर के अंदर भीड़ के साथ भ्रमण कर रहे हों.

Tirumala

श्रद्धालु मंदिर के इतिहास, उसके महत्व को समझ सकेंगे. गर्भगृह में स्थित मुख्य मूर्ति बालाजी का 3डी अनुभव तीर्थयात्रियों को मिलेगा. 

LIVE टीवी: 

यहां श्रद्धालु मंदिर में होने वाली 13 प्रकार की पूजा (सुबह से लेकर मध्य रात्रि तक‌) देख सकेंगे. इसके अलावा, श्रद्धालु तिरुमाला की सात पहाड़ियो का वर्चुअल अनुभव ले सकेंगे. इतना ही नहीं, वॉटर फॉल, जंगली जानवरों को भी पहले फेज में देख सकेंगे.  

इस 3डी वर्चुअल गैलरी से श्रद्धालु बहुत खुश हैं. चीन से आए श्रद्धालु काइरो और साइमन ने भी खुशी जाहिर करते हुए कहा कि भारतीय संस्कृति अनूठी है. उन्होंने बताया कि यह उनकी चौथी यात्रा है. अगली बार जब वह यहां आएंगे तो म्यूजियम को जरूर देखना चाहेंगे. 

(इनपुट: डीएम शेषागिरि)