CM योगी के अचानक दिल्‍ली पहुंचने के बाद कैसे बदलती गई सियासी हलचल? जानें Inside Story

योगी आदित्यनाथ के अचानक दिल्ली पहुंचने और केंद्रीय नेताओं से मुलाकात करने के बाद एक बार फिर राज्य में मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलें तेज हो गई है.

CM योगी के अचानक दिल्‍ली पहुंचने के बाद कैसे बदलती गई सियासी हलचल? जानें Inside Story
फाइल फोटो.

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश (Utter Pradesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने गुरुवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) से मुलाकात की. दो दिवसीय दौरे पर राजधानी पहुंचे योगी आदित्यनाथ के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा (JP Nadda) से मुलाकात की भी संभावना है. 

UP विधान सभा चुनाव की तैयारियां शुरू

बता दें कि अभी कुछ दिन पहले ही भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री (संगठन) बी एल संतोष और पार्टी के प्रदेश प्रभारी राधामोहन सिंह ने लखनऊ का दौरा किया था. उन्होंने अगले साल होने वाले विधान सभा चुनाव के लिए पार्टी की तैयारियों की समीक्षा की थी. दोनों नेताओं ने इस दौरान राज्य सरकार के मंत्रियों और संगठन के प्रमुख पदाधिकारियों से मुलाकात की थी.

ये भी पढ़ें- CM योगी के दिल्‍ली दौरे के बीच अमित शाह से BJP की सहयोगी पार्टी ने की ये 'डिमांड'!

तेज हुईं अटकलें

इसके बाद योगी आदित्यनाथ के अचानक दिल्ली पहुंचने और केंद्रीय नेताओं से मुलाकात करने के बाद एक बार फिर राज्य में मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलें तेज हो गई है. इन अटकलों को तब और बल मिला जब सूत्रों ने दावा किया कि नड्डा ने प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात की और एक दिन पहले ही भाजपा में शामिल हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद, मुख्यमंत्री आदित्यनाथ से मिले.

नड्डा और प्रधानमंत्री के बीच मुलाकात की कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी गई लेकिन प्रसाद ने मुख्यमंत्री से हुई अपनी मुलाकात को शिष्टाचार भेंट करार दिया.

हाल ही में भाजपा में शामिल हुए पूर्व प्रशासनिक अधिकारी और विधान परिषद के सदस्य ए के शर्मा भी दिल्ली में हैं. सूत्रों का कहना है कि उन्होंने पार्टी के कुछ केंद्रीय नेताओं से मुलाकात की. शर्मा को प्रधानमंत्री मोदी का करीबी समझा जाता है.

दिनभर चला मुलाकातों का दौर

मुलाकातों के इस दौर के बारे में भाजपा नेताओं या पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारियों ने कोई आधिकारिक जानकारी तो नहीं दी लेकिन सूत्रों ने दावा किया कि यह कवायद प्रसाद और शर्मा सहित कुछ अन्य नेताओं को उत्तर प्रदेश सरकार में शामिल किए जाने को लेकर है. प्रसाद राज्य के जानेमाने ब्राह्मण परिवार से हैं तो शर्मा भूमिहार बिरादरी से संबंध रखते हैं.

ये भी पढ़ें- पंजाब: कांग्रेस की 'कलह' खत्‍म करने के लिए कमेटी ने निकाला फॉर्मूला, सौंपी रिपोर्ट

शुक्रवार को भी PM मे मिलेंगे CM योगी

इस बीच, सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक आदित्यनाथ शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और नड्डा से मुलाकात कर सकते हैं.

शाह से मुलाकात के बाद आदित्यनाथ ने ट्वीट कर कहा, ‘आज केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से नई दिल्ली में शिष्टाचार भेंट कर उनका मार्गदर्शन प्राप्त किया. भेंट हेतु अपना बहुमूल्य समय प्रदान करने के लिए गृह मंत्री का हार्दिक आभार.’ इस ट्वीट के साथ आदित्यनाथ ने एक तस्वीर भी साझा की जिसमें वह शाह को ‘प्रवासी संकट का समाधान’ रिपोर्ट की एक प्रति सौंपते दिख रहे हैं.

इन मुद्दों पर हुई चर्चा

सूत्रों के मुताबिक तकरीबन डेढ़ तक तक चली शाह से मुलाकात के दौरान आदित्यनाथ ने राज्य में कोविड-19 की दूसरी लहर सहित अन्य राजनीतिक मुद्दों पर भी चर्चा की.

जब शाह और आदित्यनाथ की मुलाकात चल रही थी उसी समय अपना दल की अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल भी शाह के आवास पर पहुंचीं. शाह ने ट्वीट कर आदित्यनाथ और पटेल से मुलाकात की जानकारी दी और तस्वीरें भी साझा की.

सहयोगी दलों को साधने की कोशिशें

उत्तर प्रदेश के ही निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय कुमार निषाद और संत कबीरनगर से सांसद प्रवीण निषाद ने भी शाह से मुलाकात की.

शाह की पटेल और निषाद पार्टी के नेताओं से मुलाकात को आगामी विधान सभा चुनाव से पहले सहयोगी दलों को साधने के भाजपा के प्रयास के रूप में देखा जा रहा है. पटेल प्रधानमंत्री मोदी के पहले कार्यकाल में केंद्र सरकार में मंत्री थीं लेकिन दूसरी बार जब वह प्रधानमंत्री बने तो उन्होंने अपना दल की नेता को अपने मंत्रिमंडल में जगह नहीं दी.

इन मुलाकातों के बीच पूर्व आईएएस अधिकारी शर्मा ने भी निषाद पार्टी के प्रमुख नेताओं से मुलाकात की. इसके बाद उन्होंने ट्वीट कर बताया, ‘निषाद समाज के प्रिय नेता, पार्टी सुप्रीमो एवं मछुआरा समाज के राजनीतिक ‘गॉडफादर’ संजय कुमार निषाद और संत कबीर नगर से लोकप्रिय सांसद प्रवीण निषाद से शुभेच्छा मुलाकात हुई. इन समाज के लोगों के विकास हेतु साथ में कार्य करेंगे.’

उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधान सभा चुनावों के मद्देनजर दिल्ली में मुलाकातों के इस दौर को काफी अहम माना जा रहा है.

(इनपुट भाषा से भी)

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.