close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चुनाव 2019: कांग्रेस ने जैसे ही बेटे को बनाया प्रत्याशी, पिता ने तोड़ लिया नाता

जयवीर सिंह ने कहा कि वह 2017 में बीजेपी में शामिल हुए थे. अरविंद ने बीजेपी का विरोध किया था और पार्टी की सदस्यता नहीं ली थी. 

चुनाव 2019: कांग्रेस ने जैसे ही बेटे को बनाया प्रत्याशी, पिता ने तोड़ लिया नाता
फाइल फोटो

नोएडा: उत्तर प्रदेश में बीजेपी के एक नेता ने अपने बेटे से रिश्ता इसलिए तोड़ दिया क्योंकि उन्हें कांग्रेस ने गौतम बुद्ध नगर से लोकसभा का टिकट दिया है. बीजेपी नेता ने कहा कि विपक्षी पार्टी ने उनके परिवार में 'राजनीतिक मतभेदों' का फायदा उठाया है. कांग्रेस ने शनिवार को गौतम बुद्ध नगर लोकसभा सीट से बीजेपी एमएलसी जयवीर सिंह के बेटे अरविंद कुमार सिंह की उम्मीदवारी का ऐलान किया. इस सीट से फिलहाल केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा सांसद हैं.

हमारा परिवार पीएम मोदी के समर्थन में- बीजेपी नेता
समाजवादी पार्टी-बहुजन समाज पार्टी पहले ही सतवीर नागर को इस सीट से उम्मीदवार बना चुकी है. बीजेपी ने अबतक अपने प्रत्याशी का ऐलान नहीं किया. 17 मार्च को फेसबुक पर लिखे एक पोस्ट में जयवीर सिंह ने कहा कि उनकी पत्नी राज कुमारी चौहान, उनके तीनों बेटे, एक भतीजा बीजेपी के प्रति 'पूरी तरह से वफादार' हैं और पार्टी तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सार्वजनिक नीतियों के प्रति प्रतिबद्ध हैं. एमएलसी ने कहा, ''मेरे बेटे अरविंद कुमार सिंह ने दो साल पहले अपनी शादी के बाद अलग विचारधारा व्यक्त करना शुरू कर दी और परिवार से अलग रहना शुरू कर दिया.'' 

खत्म करता हूं सारे सार्वजनिक रिश्ते- जयवीर सिंह
जयवीर सिंह ने कहा कि वह 2017 में बीजेपी में शामिल हुए थे. अरविंद ने बीजेपी का विरोध किया था और पार्टी की सदस्यता नहीं ली थी. जयवीर बारौली से बीएसपी के विधायक रहे चुके हैं. उन्होंने कहा, ''लिहाजा, उन्हें (नोएडा अंतरराष्ट्रीय) विश्वविद्यालय के चांसलर के पद से मुक्त कर दिया गया. अब उनके साथ सभी सामाजिक और राजनीतिक रिश्ते खत्म किए जाते हैं.'' 

पत्नी भी रह चुकी हैं लोकसभा सदस्य
जयवीर सिंह ने कहा, ''मेरे परिवार में राजनीतिक मतभेदों का फायदा उठाते हुए कांग्रेस ने यह रणनीतिक कदम उठाया और राजनीतिक साजिश रची.'' जयवीर की पत्नी राज कुमारी चौहान 2009 से 2014 तक बीएसपी से अलीगढ़ से लोकसभा सदस्य रह चुकी हैं. कई बार संपर्क करने पर भी अरविंद कुमार सिंह से संपर्क नहीं हो पाया.