BJP विधायक रमेश दिवाकर का निधन, कोरोना संक्रमित होने के बाद मेरठ में चल रहा था इलाज

भाजपा ने 2017 के विधानसभा चुनाव में रमेश दिवाकर को औरैया सुरक्षित विधानसभा क्षेत्र से अपना प्रत्याशी बनाया था. क्षेत्र के विकास के लिए लगातार प्रयत्नशील रहने के साथ सहज उपलब्धता और मिलनसार स्वभाव के चलते उनके निधन को लोग क्षेत्र की बड़ी क्षति के रूप में देख रहे हैं.

BJP विधायक रमेश दिवाकर का निधन, कोरोना संक्रमित होने के बाद मेरठ में चल रहा था इलाज
रमेश दिवाकर (फाइल फोटो)

औरैया: कोरोना वायरस देश पर लगातार कहर बनकर टूट रहा है. क्या आम और क्या खास सभी को यह अपनी चपेट में तेजी से ले रहा है. उत्तर प्रदेश के औरैया जिले के सदर से भाजपा विधायक रमेश दिवाकर की कोरोना से मौत हो गई है. विधायक रमेश दिवाकर कुछ दिन पहले कोरोना की चपेट में आ गए थे. हालत ज्यादा खराब होने के कारण उन्हें मेरठ मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था. जहां पर इलाज के दौरान उनका निधन हो गया है. 

मिलनसार स्वभाव के धनी थे दिवाकर 
भाजपा ने 2017 के विधानसभा चुनाव में रमेश दिवाकर को औरैया सुरक्षित विधानसभा क्षेत्र से अपना प्रत्याशी बनाया था. क्षेत्र के विकास के लिए लगातार प्रयत्नशील रहने के साथ सहज उपलब्धता और मिलनसार स्वभाव के चलते उनके निधन को लोग क्षेत्र की बड़ी क्षति के रूप में देख रहे हैं.विधायक के निधन की खबर से क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई. भारतीय जनता पार्टी सहित विभिन्न राजनीतिक दलों के लोगों ने विधायक रमेश दिवाकर के असामयिक निधन पर शोक जताया है.

पहले अस्पताल प्रशासन ने नहीं छूने दी बॉडी, जब मुखाग्नि के लिए चेहरा खोला तो दंग रह गए परिजन

लंबे समय से BJP से थे जुड़े 
जिले के तिलक नगर कॉलोनी में रहने वाले 56 वर्षीय रमेश दिवाकर पिछले दो दशक से ज्यादा समय से भाजपा से जुड़े हुए थे. उन्होंने अपनी सियासी पारी की शुरुआत औरैया शहर के चौधरी विशंभर सिंह भारती विद्यालय में बतौर व्यायाम शिक्षक से की थी. भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष रहे रमेश दिवाकर ने 2009 और 2014 में इटावा सुरक्षित लोकसभा क्षेत्र से बीजेपी से टिकट की मांग की थी.

शानदार पहल: बेटी को वर्चुअली दें आशीर्वाद, शादी में आना नहीं है, आराम से होगी दावत

RSS से था पुराना नाता 
औरैया सदर भाजपा विधायक रमेश चंद्र दिवाकर की शादी लक्ष्मी देवी से हुई थी. इनके दो बड़ी बेटियां और दो बेटे हैं. वर्ष 1964 में इनका जन्म इटावा में हुआ था. औरैया जिला तब इटावा जनपद की तहसील हुआ करता था. वर्ष 2000 से आरएसएस से जुड़े रहे. वर्ष 2004 से सक्रिय राजनीति में आए. जिसके बाद भाजपा ने नगर मंत्री, जिला मंत्री, महामंत्री और वर्ष 2016 में जिला अध्यक्ष बनाया. वर्ष 2017 में बीजेपी ने टिकट दिया जिसके बाद वे विधायक बने.

 VIDEO: काफी शातिर है ये बिल्ली 'मौसी', पलक झपकते ही चुरा लेती है मगरमच्छ का शिकार

WATCH LIVE TV