close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

यूपी के टीचर्स को नहीं है जूतों की पहचान! 4 हजार लड़कों को बांट दिए लड़कियों के जूते

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले के परिषदीय विद्यालयों में बच्चों को जूता-मोजा बांटने में बड़ी लापरवाही का खुलासा हुआ है. यहां लड़कों के लिए लड़कियों के जूते भिजवा दिए गए. 

यूपी के टीचर्स को नहीं है जूतों की पहचान! 4 हजार लड़कों को बांट दिए लड़कियों के जूते
सिरौलीगौसपुर ब्लॉक क्षेत्र के स्कूलों में मिले जूते जब लड़कों ने पहने तो पता चला कि वह तो लड़कियों के जूते हैं.

बाराबंकी: उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले के परिषदीय विद्यालयों में बच्चों को जूता-मोजा बांटने में बड़ी लापरवाही सामने आई है. यहां लड़कों के लिए लड़कियों के जूते भिजवा दिए गए. इतना ही नहीं अधिकारियों और शिक्षकों ने आंख बंद करके लड़कियों के जूते लड़कों को बांट भी दिए. जब इस बारे में लड़कों ने शिक्षकों को बताया तो इस लापरवाही की जानकारी सामने आई.

4 हजार बच्चों को बांटे जा चुके थे जूते
जिले में कुल 2171 प्राथमिक और 847 च्च प्राथमिक विद्यालय हैं. जिनमें 3 लाख 37 हजार 716 बच्चों का रजिस्ट्रेशन है. इन बच्चों के जूतों के लिए सभी खंड शिक्षा अधिकारियों की तरफ से डिमांड भेजकर जूते मंगाए गए थे. इसके बाद जिला मुख्यालय से सभी खंड शिक्षा अधिकारियों के पास जूते भेजे गए, लेकिन अधिकारियों ने बच्चों को जूते बांटने में बड़ी लापरवाही की. यहां के सिरौलीगौसपुर ब्लॉक क्षेत्र के स्कूलों में मिले जूते जब लड़कों ने पहने तो पता चला कि वह तो लड़कियों के जूते हैं. जब इस बारे में स्कूलों से शिकायत मिली तो बीईओ ने बीएसए को जानकारी दी और बच्चों से जूते वापस लिए गए. अकेले सिरौलीगौसपुर ब्लॉक क्षेत्र में स्कूलों से चार हजार जूतों की वापसी कराई जा रही है.

देखिए LIVE TV

खंड शिक्षा अधिकारी ने कही यह बात
वहीं इस मामले में सिरौलीगौसपुर ब्लॉक की बीईओ शालिनी गुप्ता ने बताया कि उनके क्षेत्र में करीब चार हजार लड़कों को जूते इसलिए नहीं मिल सके, क्योंकि उनकी जगह पर लड़कियों के जूते आ गए. इस बारे में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को बताया गया है और लड़कियों के जूते वापस करके लड़कों के जूते मंगवाने की कार्रवाई की जा रही है.