close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

VIDEO: योगी कैबिनेट ने घुटने भर पानी में लगाई डुबकी

मुख्यमंत्री के साथ अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि और अन्य साधु संतों ने भी संगम में स्नान किया.

VIDEO: योगी कैबिनेट ने घुटने भर पानी में लगाई डुबकी
सीएम योगी के साथ दूसरे साधु संतों ने भी डुबकी लगाई. Video grab

प्रयागराज : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को कुम्भ मेले में अपने पूरे मंत्रिमंडल के साथ संगम में डुबकी लगाई. मुख्यमंत्री के साथ अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि और अन्य साधु संतों ने भी संगम में स्नान किया. स्नान के बाद प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने संवाददाताओं से कहा, "मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुवाई में उत्तर प्रदेश की पूरी कैबिनेट और हमारे कई राज्यमंत्रियों ने आज संगम में डुबकी लगाई. कई साधु संत भी साथ में डुबकी लगाने के लिए आए."

उन्होंने कहा, "इसे मैं जीवन का सौभाग्य मानता हूं. आज का दिन प्रयागराज के लिए ऐतिहासिक दिन है. इससे पूर्व दिन में मुख्यमंत्री योगी अपने मंत्रिमंडल के साथ लेटे हुए हनुमान जी के मंदिर गए जहां उन्होंने पूजा अर्चना की. मुख्यमंत्री ने मंत्रिमंडल के साथियों के साथ अक्षयवट और सरस्वती कूप के भी दर्शन किए. मुख्यमंत्री ने दिव्य कुम्भ, भव्य कुम्भ सेल्फी प्वाइंट पर मंत्रिमंडल के सहयोगियों के साथ फोटो भी खिंचवाई.

प्रयागराज के कुम्भ मेले में कैबिनेट की बैठक पर प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा नगर अध्यक्ष अवधेष गुप्ता ने कहा कि स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद पहली बार प्रयागराज में योगी सरकार ने कैबिनेट की बैठक कर एक स्वर्णिम इतिहास रचा है.

कुंभ में कैब‍िनेट से पहले धर्म संसद का भी आयोजन क‍िया गया था. इसके अनुसार, स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने ऐलान किया है कि वह अयोध्या कूच करेंगे. उनके साथ साथ अखाडा़ परिषद पहले से कह चुका है कि वह कुंभ मेले के बाद जाएगा.इसके साथ ही उनसे पूछा गया कि इसके बाद क्या स्थिति रहेगी, सरकार कोई पहल कर सकती है क्या, क्या लोकसभा चुनाव से पहले मंदिर निर्माण शुरू हो सकता है. उन्होंने कहा, 'देखिये, मैं इतना ही कहूंगा कि सरकार चाहती है कि जल्द से जल्द राम मंदिर का निर्माण हो. ये जितना जनता से जुड़ा हुआ मसला है, जनता की जो आस्था है, वही सरकार की भी आस्था है.'