रायबरेली में मंदिर के गेट पर लटका मिला पुजारी का शव, 4 के खिलाफ केस दर्ज

पुलिस ने महंत मौनी बाबा की शिकायत पर चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है, जिसमें मंदिर की भूमि पर कब्जे से जुड़े विवाद में शामिल बाजीनाथ मौर्य का नाम भी शामिल है. 

रायबरेली में मंदिर के गेट पर लटका मिला पुजारी का शव, 4 के खिलाफ केस दर्ज
पुलिस मामले की जांच कर रही है.

रायबरेली: रायबरेली में एक 64 साल के पुजारी का शव खंभे से लटका मिला है. चार लोगों पर उनकी हत्या का संदेह जताया जा रहा है. पुलिस ने गुरुवार (03 जनवरी) को बताया कि बाबा का पुरवा में राम जानकी मंदिर के पुजारी स्वामी प्रेमदास की मंगलवार रात हत्या कर दी गई थी.

पुलिस ने महंत मौनी बाबा की शिकायत पर चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है, जिसमें मंदिर की भूमि पर कब्जे से जुड़े विवाद में शामिल बाजीनाथ मौर्य का नाम भी शामिल है. शिकायत में कहा गया है कि भू-माफिया गिरोह का सदस्य मौर्य इससे पहले भी मंदिर के एक पुजारी स्वामी सत्यनारायण दास की हत्या में कथित रूप से शामिल रहा है. 

मौनी बाबा ने आरोप लगाया कि मौर्य ने मंदिर की भूमि के एक हिस्से पर अतिक्रमण कर लिया था, जिस पर निर्माण कार्य जारी है. पुलिस अधीक्षक सुनील सिंह ने कहा कि आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. 

जानकारी के मुताबिक, बाबा पुरवा स्थित राम जानकी मंदिर के पास 127 एकड़ भूमि है. बेशकीमती भूमि पर कई अवैध कब्जे हैं. मंदिर प्रशासन कब्जेदारों से लड़ता रहा. महंत प्रेमदास ने 20 दिसंबर को अमेठी जिले के सगरा पीठाधीश्वर मौनी महराज को यहां की जिम्मेदारी सौंप दी थी. इसके बाद मंगलवार (1 जनवरी) की रात को ये घटना घटित हुई. 

मौनी महराज ने पुलिस को जो तहरीर दी है उसमें एनटीपीसी रोड निवासी बैजनाथ मौर्य, अमृतलाल मौर्य, संजीव कुमार मौर्य और राम स्वरूप दास को नामजद करते हुए लिखा है कि इन लोगों ने प्रेमदास को उठाकर मंदिर के मुख्य गेट पर हत्या करके लटका दिया. तहरीर में लिखा है कि सुबह जानकारी होने पर वे यहां पहुंचे. यह भी लिखा है कि मंदिर की बेशकीमती भूमि पर बीएन मौर्य ने कब्जा करके बाउंड्री भी बनवा ली थी. उन्होंने यह भी लिखा कि इन्हीं के गैंग वालों ने 22 दिसंबर को उनके गौरीगंज अमेठी स्थित आश्रम में पहुंच कर धमकाया भी था. ऊंचाहार सीओ विनीत ने बताया कि हत्या सहित कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है. मामले की जांच की जा रही है.