Vikas Dubey Case: बिकरू कांड से ठीक पहले विकास दुबे पर दर्ज FIR ने खोले कई राज

FIR से खुलासा हुआ है कि रात 11:52 बजे विकास दुबे पर FIR दर्ज हुई थी और 12:27 पर पुलिस दबिश डालने निकल गई थी. यानी की मुकदमा दर्ज होने के महज 35 मिनट में दबिश डाल दी गई थी. 

Vikas Dubey Case: बिकरू कांड से ठीक पहले विकास दुबे पर दर्ज FIR ने खोले कई राज
(फाइल फोटो)

कानपुर: विकास दुबे मामले (Vikas Dubey Case) में लगातार नए खुलासे हो रहे हैं. 8 पुलिसकर्मियों के शहीद होने के मामले में FIR से बड़ा खुलासा हुआ है. पता चला है कि विकास दुबे पर रात 11:52 पर FIR दर्ज हुई थी. FIR दर्ज होने के महज 35 मिनट बाद पुलिस विकास के घर पहुंच गई. 

FIR से खुलासा हुआ है कि रात 11:52 बजे विकास दुबे पर FIR दर्ज हुई थी और 12:27 पर पुलिस दबिश डालने निकल गई थी. यानी की मुकदमा दर्ज होने के महज 35 मिनट में दबिश डाल दी गई थी. 

इधर, विकास दुबे गैंग के खिलाफ कार्रवाई जारी है. जल्द ही विकास के 26 करीबियों के 28 असलहों के लाइसेंस रद्द किए जा सकते हैं. इस बारे में कानपुर पुलिस ने जिलाधिकारी को रिपोर्ट भेजी है.

ये भी पढ़ें- एनकाउंटर वाले दिन दादरी के अस्पताल में बना विकास दुबे के नाम पर्चा, जानें पूरा मामला

विकास दुबे से जुड़े एक के बाद एक कई खुलासे हो रहे हैं और लगातार कई वीडियो भी सामने रहे हैं. इस मामले से जुड़ा एक नया वीडियो सामने आया है जो उज्जैन के महाकाल मंदिर के पास का बताया जा रहा है. वीडियो में विकास दुबे मजे से महाकाल मंदिर के ठीक सामने फूल वाले दुकान पर जाता नजर आ रहा है.  

वीडियो 9 जुलाई के उस समय का बताया जा रहा है जब विकास दुबे उज्जैन महाकाल के दर्शन करने गया था. दर्शन से पहले विकास दुबे ऑटो से उतरकर फूल वाले की दुकान पर गया. जो वीडियो वायरल हो रहा है उसमें विकास मुंह पर बिना मास्क लगाए घूम रहा है. बताया जा रहा है कि जिस फूल वाले की दुकान पर विकास दुबे गया था उसी दुकानदार ने सबसे पहले विकास दुबे की पहचान की थी.

बिकरू कांड से जुड़ा एक और वायरल वीडियो सामने आया है. इस बार विकास दुबे के साथी शशिकांत, की मां ने दावा किया है कि सीओ देवेंद्र मिश्रा को अमर दुबे ने गोली मारी थी. शशिकांत की मां के मुताबिक, CO देवेंद्र मिश्रा उसे जान बख्श देने के लिए गुहार लगाता रहा लेकिन अमर दुबे ने गालियां देते हुए सीओ को गोली मार दी.

आपको बता दें कि बिकरू कांड के आरोपी अमर दुबे को भी यूपी एसटीएफ ने हमीरपुर में एनकाउंटर में मार गिराया था. कानपुर जिले के बिकरू गांव में दो-तीन जुलाई की रात को आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी गई थी. अमर दुबे भी इसमें शामिल था. 

ये भी देखें-