अब दुनियाभर में लगेगी Serum Institute की कोरोना वैक्सीन, WHO ने दी आपात इस्तेमाल की मंजूरी

डब्ल्यूएचओ (WHO) ने सोमवार को जारी बयान में बताया, 'ऑक्सफोर्ड-एस्ट्रेजेनेका की वैक्सीन के दो संस्करणों को आपात इस्तेमाल के लिए मंजूरी दी गई है ताकि दुनिया भर में कोवैक्स के तहत टीकाकरण (Corona Vaccination) को आगे बढ़ाया जा सके.'

अब दुनियाभर में लगेगी Serum Institute की कोरोना वैक्सीन, WHO ने दी आपात इस्तेमाल की मंजूरी
प्रतीकात्मक तस्वीर

जिनेवा: भारत में सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute Of India) द्वारा बनने वाली कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड (Covishield) का इस्तेमाल अब दुनियाभर में होगा. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने ऑक्सफोर्ड और एस्ट्राजेनेका (Oxford-AstraZeneca) द्वारा विकसित की गई दो कोविड-19 वैक्सीन को आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी है. इसमें सीरम इंस्टिट्यूट की वैक्सीन के अलावा दक्षिण कोरिया की एस्ट्राजेनेका-एसकेबायो की वैक्सीन है.

वैक्सीन उत्पादन में तेजी लानी चाहिए: WHO

डब्ल्यूएचओ (WHO) ने सोमवार को जारी बयान में बताया, 'ऑक्सफोर्ड-एस्ट्रेजेनेका की वैक्सीन के दो संस्करणों को आपात इस्तेमाल के लिए मंजूरी दी गई है ताकि दुनिया भर में कोवैक्स के तहत टीकाकरण (Corona Vaccination) को आगे बढ़ाया जा सके.' इसके साथ ही डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस एडहानॉम ये भी कहा है कि हमें वैक्सीन के उत्पादन में तेजी लानी चाहिए.

ये भी पढ़ें- यदि Coronavirus कभी खत्म नहीं होता है तो क्या होगा? बार-बार संक्रमित होने जा रहे लोग!

 

यूएन की स्वास्थ्य एजेंसी ने की थी सिफारिश

वैक्सीन को मंजूरी देने से ठीक एक दिन पहले यूएन की स्वास्थ्य एजेंसी के एक पैनल ने वैक्सीन को लेकर अंतरिम सिफारिश दी थी, जिसमें कहा गया था कि सभी वयस्कों को 8-12 हफ्तों के अंतराल पर वैक्सीन के दो डोज दिए जाने चाहिए.

लाइव टीवी

फाइजर की वैक्सीन को मिल चुकी है मंजूरी

डब्ल्यूएचओ (WHO) ने पिछले साल दिसंबर में फाइजर (Pfizer) की कोरोना वैक्सीन को आपात इस्तेमाल के लिए मंजूरी दी थी. बता दें कि ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका (Oxford-AstraZeneca) की कोरोना वैक्सीन फाइजर की वैक्सीन के मुकाबले काफी सस्ती है.

गरीब देशों को उपलब्ध कराई जाएगी वैक्सीन

डब्ल्यूएचओ (WHO) ने अपने बयान में कहा, 'ऑक्सफोर्ड-एस्ट्रेजेनेका की इन दो कोरोना वैक्सीन को मंजूरी दिए जाने के बाद दुनियाभर के कई देशों में कोवैक्स प्रोग्राम के तहत टीका लगाने का काम तेज हो जाएगा. इसके बाद दुनिया के जिन देशों में अभी तक वैक्सीन नहीं मिल पाई थी, वहां पर अब कोरोना के टीकाकरण की शुरुआत की जा सकेगी. बता दें कि कोवैक्स प्रोग्राम के तरह डब्ल्यूएचओ द्वारा दुनियाभर के गरीब देशों में कोरोना वैक्सीन पहुंचाने की कोशिश करती है.

भारत में 80 लाख लोगों को लग चुका है टीका

बता दें कि ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने पिछले महीने सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया की कोविशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को देश में आपात इस्तेमाल को मंजूरी थी, जिसके बाद सरकार ने 16 जनवरी से टीकाकरण अभियान की शुरुआत की थी. देशभर में 13 फरवरी तक 80 लाख से ज्यादा लोगों को कोरोना का टीका (Corona Vaccine) लगाया जा चुका है.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.