दुनिया लंबी और भारतीय छोटे क्यों हो रहे हैं? हाइट पर क्‍या कहती है लोगों की सोच
X

दुनिया लंबी और भारतीय छोटे क्यों हो रहे हैं? हाइट पर क्‍या कहती है लोगों की सोच

एक साइंस जर्नल में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक भारत के लोगों की औसत Height यानी लंबाई घट रही है. वहीं कुछ रिपोर्ट्स का कहना है कि दुनिया के बाकी देशों में लोगों की लंबाई बढ़ रही है.

दुनिया लंबी और भारतीय छोटे क्यों हो रहे हैं? हाइट पर क्‍या कहती है लोगों की सोच

नई दिल्ली: PLOS One नामक Science Journal में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत के लोगों की औसत Height यानी लंबाई घट रही है. ये दावा वर्ष 2005 और वर्ष 2015 में हुए National Family Health Survey के आंकड़ो की तुलना करके किया गया है.

भारतीयों की घट रही है लंबाई

इस Report के मुताबिक भारत में पुरुषों के मुकाबले महिलाओं की औसत Height तेजी से घट रही है. इससे सबसे ज्यादा प्रभावित वो महिलाएं हैं, जो SC या ST समुदाय से आती हैं.

ST समुदाय से आने वाली 5 वर्ष की एक बच्ची की हाईट में सामान्य वर्ग के मुकाबले औसतन 2 सेंटीमीटर की कमी आई है. जबकि अमीर घरों से आने वाली महिलाओं की औसत Height में वृद्धि हुई है.

पुरुषों के मामले में किसी भी वर्ग की स्थिति अच्छी नहीं है. इस रिपोर्ट के मुताबिक भारत में अमीर, गरीब और पिछड़े वर्ग से आने वाले पुरुषों की औसत लंबाई में 1 सेंटीमीटर की कमी आई है. भारत के लोगों की औसत लंबाई में ये कमी वर्ष 2005 के बाद से आई है. जबकि वर्ष 1989 के बाद से भारत के लोगों की औसत Height लगातार बढ़ रही थी.

लंबाई घटने का बड़ा कारण पोषण की कमी  

ये सब तब हो रहा है जब पूरी दुनिया में लोगों की औसत लंबाई तेज़ी से बढ़ रही है. वैज्ञानिक मानते हैं कि Height के ना बढ़ने के पीछे मुख्य तौर पर पोषण की कमी जिम्मेदार होती है.

वैसे भारत में महिलाओं की औसत लंबाई 5 फीट 1 Inch मानी जाती है. जबकि पुरुषों की औसत लंबाई 5 फीट 4 Inch मानी गई है. लेकिन इस पर अब तक एक राय नहीं है. कुछ Studies का दावा है कि भारत में पुरुषों की औसत हाईट 5 फीट 8 Inch है और महिलाओं की औसत लंबाई 5 फीट 3 Inch है.

इन राज्यों के पुरुषों की कम होती है लंबाई

National Family Health Survey के मुताबिक मेघालय, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश और झारंखड में पुरुषों की औसत लंबाई पूरी दुनिया के पुरुषों के मुकाबले सबसे कम है.

महिलाओं की बात करें तो मेघालय, त्रिपुरा, झारखंड और बिहार में महिलाओं की औसत Height पूरी दुनिया के मुकाबले सबसे कम है. जबकि जम्मू-कश्मीर, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और केरल के पुरुषों की औसत लंबाई दुनिया के 30 देशों के पुरुषों की औसत लंबाई से ज्यादा है. इसी तरह पंजाब, हरियाणा, और केरल की महिलाओं की औसत Height दुनिया के 40 देशों की महिलाओं की औसत Height से ज्यादा है.

वैज्ञानिकों के मुताबिक मां का स्वास्थ्य, पोषण, पर्यावरण और प्रदूषण जैसे कारण बच्चों की हाईट ना बढ़ने के लिए जिम्मेदार होते है.

किसी को बचपन में कैसा माहौल और पोषण नसीब होगा. ये तो तय नहीं किया जा सकता. सवाल ये है कि क्या हमारा समाज छोटे कद की महिलाओं और पुरुषों के साथ न्याय करता है?

भारत में हर जगह आड़े आ जाता है कद

इसका जवाब है नहीं. भारत में चाहे बात शादी विवाह की हो या फिर नौकरियों की. कई बार लोगों का छोटा कद उनके सपनों के आड़े आ जाता है. छोटे कद की वजह से कई बार लड़की के परिवार वाले ज्यादा दहेज देने के लिए भी तैयार हो जाते हैं. वहीं कई बार छोटे कद के लड़कों को भी जीवन साथी ढूंढने में परेशानी होती है. 

बात अगर Television और फिल्मों में Carrier बनाने की हो तो यहां भी छोटी Height के लोगों के साथ भेदभाव होता है. फिल्मों और Fashion Industry में आम तौर पर उन महिलाओं को ही मौका मिलता है. जिनकी Height कम से कम 5 फीट 9 Inch होती है, जबकि 6 फीट से ज्यादा लंबे पुरुषों को ही इस Industry में पर्याप्त मौके मिल पाते हैं.

छोटे कद की महिलाओं और पुरुषों को कई बार ताने भी सुनने पड़ते हैं. धीरे धीरे ये सब हीन भावना में बदल जाता है. जबकि सच ये है कि भारत मोटे तौर पर लंबे लोगों का नहीं बल्कि कद में छोटे लोगों का देश है. छोटे कद के मामले में भारत दुनिया के 200 देशों में 14वें नंबर पर है. नए आंकड़े बताते हैं कि भारत में लोगों की लंबाई अब पहले से भी कम हो रही है.

दुनिया में लोगों की बढ़ रही है हाइट

इसके विपरीत पिछले 150 वर्षों में पूरी दुनिया में लोगों की लंबाई बहुत तेज़ी से बढ़ी है. आम तौर पर चीन, जापान और दक्षिण कोरिया के लोगों को कद में छोटा माना जाता है. आज की तारीख में भारत के लोगों की औसत Height चीन, जापान और दक्षिण कोरिया के लोगों के मुकाबले भी 2 से 4 इंच कम है.

भारत में माता पिता भी तब बहुत चिंतित हो जाते हैं. जब उनके बच्चों का कद नहीं बढ़ता. इसी चिंता में माता पिता अपने बच्चों को Health और Growth Supplement देना शुरू कर देते हैं. भारत में आज Health और Growth Supplement का बाज़ार 30 हज़ार करोड़ रुपये का हो चुका है. लोग अच्छी Height ही नहीं चाहते बल्कि अच्छा दिखना भी चाहते हैं. यही वजह है कि भारत में Beauty Products का बाज़ार इस समय 2 लाख करोड़ रुपये का है. जबकि Cosmetic Surguries का बाजार एक हज़ार करोड़ रुपये का है.

कुल मिलाकर लोग अब ईश्वर के दिए रंग रूप और कद काठी से ही संतुष्ट नहीं होते. वो अपने काया कल्प के लिए डॉक्टरों के पास जाते हैं और अपने शरीर को कटवाने से भी पीछे नहीं हटते.

कद बढ़वाने के लिए सर्जरी करा रहे लोग

उदाहरण के लिए भारत में अब बहुत सारे लोग अपनी लंबाई बढ़ाने के लिए Surgery भी करा रहे हैं. जिसे Limb Lengthening Surgery कहा जाता है. इस Surgery के दौरान पैरों की हड्डी को काटा जाता है यानी उसे दो हिस्सों में बांट दिया जाता है. फिर इन दो हिस्सों के बीच Screws की मदद से एक Device लगा दी जाती है. जिसे हर दिन धीरे-धीरे घुमाकर हड्डियों को एक दूसरे से दूर किया जाता है.

जैसे जैसे ये अंतर बढ़ता है. शरीर नई हड्डियों के जरिए दोनों हिस्सों को जोड़ने की कोशिश करता है. जब नई हड्डियों के जरिए ये अंतर भर जाता है तो ऑपरेशन कराने वाले व्यक्ति की हाइट कुछ सेंटिमिटर से लेकर तीन से चार इंच तक बढ़ जाती है.

इस प्रक्रिया में ऑपरेशन कराने वाले को बहुत दर्द होता है और परिणाम आने में 10 से 11 महीने तक लग जाते हैं. फिर भी इस बात की कोई गारंटी नहीं होती कि Surgery कराने वाले की Height उसके मन के मुताबिक बढ़ ही जाएगी.

तानों से परेशान होकर करवा रहे ऑपरेशन

Zee News की टीम एक ऐसे ही अस्पताल में पहुंची, जहां इस तरह की सर्जरी की जाती है. हमारी टीम ने ऐसी Surgery कराने वाले लोगों से बात की. जिन्होंने नाम और चेहरा ना दिखाने की शर्त पर हमें अपनी अपनी कहानियां बताईं. किसी को डर था कि कम Height की वजह से उसका विवाह नहीं हो पाएगा. वहीं किसी को करियर में आगे ना बढ़ पाने की चिंता थी. किसी ने स्कूल में साथ पढ़ने वाले बच्चों के तानों से परेशान होकर ये Surgery कराई. आपको समझ आ जाएगा कि भारत में Height को लेकर समाज की सोच कितनी छोटी है.

ये भी पढ़ें- लोकतंत्र में विरोध के तरीके 'हजार', फिर क्यों बंद किए गए सड़कें और बाजार?

अब आपको एक ऐसी मनोवैज्ञानिक के बारे में बताते हैं. जिनके पिता खुद हाईट बढ़ाने वाली सर्जरी करते हैं. ये मनोवैज्ञानिक भी अपने छोटे कद की वजह से परेशान थीं. वो अपने पिता से बार बार कहती थीं कि आप सबकी हाइट बढ़ाते हैं तो ऑपरेशन करके मेरी भी हाईट बढ़ा दीजिए. एक दिन अचानक उन्हें ख्याल आया कि केवल हाइट ही उनकी पहचान नहीं है. इसके बाद उन्होंने सर्जरी की जिद छोड़ दी. अब वो खुद लोगों को हाइट बढ़ाने वाली खतरनाक सर्जरी के प्रति आगाह करती हैं.

LIVE TV

ये भी देखे

Trending news