Zee जानकारी : ऑन ड्यूटी मृत्यु होने पर जवानों को अब 25 लाख का मुआवजा

Zee जानकारी : ऑन ड्यूटी मृत्यु होने पर जवानों को अब 25 लाख का मुआवजा

केन्द्र सरकार ने युद्धक्षेत्र में शहीद होने वाले जवानों का मुआवज़ा अब बढ़ा दिया है। वैसे को शहादत को किसी मुआवज़े से तौला नहीं जा सकता, लेकिन शहीदों के परिवारों की मदद करके उनका दर्द कुछ कम ज़रूर किया जा सकता है। हमें लगता है कि शहीदों के परिवारों का ख्याल रखना पूरे देश की ज़िम्मेदारी है और सरकार ने इस दिशा में एक सकरात्मक कदम उठाया है।
 
- ड्यूटी पर तैनात जवान की दुर्घटना में मौत होने पर दिया जाने वाला मुआवज़ा 10 लाख से बढ़ाकर 25 लाख कर दिया गया है।

- आतंकवादियों से मुठभेड़ या समुद्री डाकुओं से लड़ते हुए शहीद होने पर अब 15 लाख के बजाए 35 लाख रुपये का मुआवज़ा दिया जाएगा । 

- सियाचिन जैसे High Altitude वाले क्षेत्रों में ड्यूटी पर शहीद होने पर भी मुआवज़ा 15 लाख से बढ़ाकर 35 लाख कर दिया गया है। 

- युद्ध या युद्ध जैसे हालात होने पर या फिर किसी दूसरे देश में भारतीय नागरिक के Rescue के दौरान शहीद होने पर सैनिक के परिवार को 45 लाख रुपये मुआवज़े के तौर पर मिलेंगे। 

- Defence Sector में 7वां वेतन आयोग लागू होने तक ये मुआवज़ा प्रधानमंत्री राहत कोष से मिलेगा। 

- 29 सितंबर को पाकिस्तान के खिलाफ हुई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद जम्मू कश्मीर में भारत के 14 जवान शहीद हो चुके हैं।