• 542/542 लक्ष्य 272
  • बीजेपी+

    354बीजेपी+

  • कांग्रेस+

    89कांग्रेस+

  • अन्य

    99अन्य

तुमकुर सीट देवेगौड़ा को देने के फैसले से वहां कांग्रेस का आधार कम नहीं होगा : परमेश्वर

परमेश्वर ने यहां कोलाला गांव में एक चुनावी कार्यक्रम से इतर कहा, ''तुमकुर सीट देवेगौड़ा को देने के फैसले से वहां कांग्रेस का आधार कम नहीं होगा. हमारा असली मकसद राहुल गांधी को भारत का प्रधानमंत्री बनते देखना है.''

तुमकुर सीट देवेगौड़ा को देने के फैसले से वहां कांग्रेस का आधार कम नहीं होगा : परमेश्वर
कर्नाटक के उप मुख्यमंत्री जी परमेेश्वर (फोटो साभारः Facebook)

तुमकुर: कर्नाटक के उप मुख्यमंत्री जी परमेश्वर ने कहा कि तुमकुर लोकसभा सीट गठबंधन सहयोगी जद(एस) को देने के कांग्रेस के फैसले से इस निर्वाचन क्षेत्र में पार्टी की पकड़ कम नहीं होगी और उनका असली मकसद राहुल गांधी को प्रधानमंत्री बनते देखना है. पूर्व प्रधानमंत्री और जद(एस) सुप्रीमो एच डी देवगौड़ा तुमकुर में पूर्व सांसद जी एस बासवराजू को चुनौती देंगे. परमेश्वर ने यहां कोलाला गांव में एक चुनावी कार्यक्रम से इतर कहा, ''तुमकुर सीट देवेगौड़ा को देने के फैसले से वहां कांग्रेस का आधार कम नहीं होगा. हमारा असली मकसद राहुल गांधी को भारत का प्रधानमंत्री बनते देखना है.'' 

BJP का तंज, AAP की नहीं विकास में दिलचस्पी, वरना नहीं मांगती कांग्रेस का साथ

उन्होंने कहा कि देवेगौड़ा ने भी गांधी को प्रधानमंत्री बनते देखने की इच्छा जताई है. गौरतलब है कि परमेश्वर और अन्य स्थानीय नेता मौजूदा सांसद एम गौड़ा को यह सीट देने से इनकार करने को लेकर नाराज हो गए थे. एम गौड़ा ने माना कि पहले जद(एस) को यह सीट देने पर शुरुआत में थोड़ी नाराजगी थी लेकिन बाद में गांधी और केंद्रीय नेतृत्व से मिलने के बाद उन्होंने निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर अपना नामांकन वापस ले लिया.

उन्होंने कहा, ''मैंने दिल्ली में राहुल गांधी और अन्य नेताओं से मुलाकात की. गांधी ने तुमकुर क्षेत्र से बागी उम्मीदवार के तौर पर अपना नामांकन वापस लेने के लिए कहा. युवा नेता ने मुझे कहा कि 'भारत और उसकी सुरक्षा तथा उसकी खैरियत के लिए आपको यह करना होगा.' मैंने तुरंत अपना नामांकन वापस लेने और देवेगौड़ा की मदद करना शुरू कर दिया.'' 

राहुल गांधी की PM मोदी पर टिप्‍पणी के खिलाफ मीनाक्षी लेखी की याचिका पर SC में सुनवाई कल

तुमकुर सीट से कांग्रेस और भाजपा के उम्मीदवार दस तथा चार बार जीते हैं. यह 1952 से 1989 तक पार्टी का गढ़ रहा जब तक वह भाजपा से हारी नहीं.  जी एस बासवपुर भाजपा के उम्मीदवार हैं. वह कांग्रेस के टिकट पर तीन बार जीते थे और एक बार भाजपा के उम्मीदवार बने. उन्हें 2014 के चुनावों में एम गौड़ा ने हराया था. (इनपुटः भाषा)