close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव 2019: खंडवा पर है नंदकुमार चौहान का दबदबा, कैसे पार पाएगी कांग्रेस

नंदकुमार चौहान यहां से लगातार पांच बार जीते, जिसके बाद 2009 में उन्हें हार का सामना करना पड़ा.

लोकसभा चुनाव 2019: खंडवा पर है नंदकुमार चौहान का दबदबा, कैसे पार पाएगी कांग्रेस
नंदकुमार सिंह चौहान (फोटो साभारः facebook)

खंडवाः मध्य प्रदेश की खंडवा लोकसभा सीट प्रदेश की उन सीटों में से एक है, जिस पर भाजपा का दबदबा रहा है. खंडवा लोकसभा सीट से सांसद नंदकुमार चौहान यहां से सबसे ज्यादा बार जीतने वाले सांसद हैं. नंदकुमार चौहान यहां से लगातार पांच बार जीते, जिसके बाद 2009 में उन्हें हार का सामना करना पड़ा, लेकिन फिर 2014 में वापसी करते हुए नंदकुमार चौहान ने इस सीट को अपने नाम कर लिया.

मध्यप्रदेश : चुनाव से पहले बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा, 'मुझे जिम्मेदारी से मुक्त करिए'

2014 के राजनीतिक समीकरण

2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी प्रत्याशी नंदकुमार चौहान ने कांग्रेस के अरुण यादव को 2,59,714 वोटों के अंतर से करारी मात दी थी. इस चुनाव में जहां भाजपा पहले और कांग्रेस दूसरे नंबर की पार्टी रही थी तो वहीं आम आदमी पार्टी तीसरे नंबर की पार्टी बनकर उभरी थी.

राजनीतिक इतिहास
खजुराहो के राजनीतिक इतिहास की बात की जाए तो साल 1952 में पहली बार यहां आम चुनाव हुए थे, जिसमें कांग्रेस को जीत मिली थी. 1952 से लेकर 1976 तक इस सीट पर कांग्रेस का ही राज था, लेकिन 1977 में इस सीट पर भारतीय लोकदल ने जीत हासिल की. जिसके बाद 1980 में फिर वापसी की. वहीं साल 1996 के चुनाव में इस सीट पर भाजपा के नंदकुमार चौहान ने जीत हासिल की, जिसके बाद 2009 के अलावा हर बार जीत उन्हीं के हिस्से आई.

लोकसभा चुनाव 2019: खजुराहो में जीतने को बेचैन है कांग्रेस, 20 सालों से है BJP का राज

सांसद का रिपोर्ट कार्ड
बात की जाए सांसद नंदकुमार चौहान के प्रदर्शन की तो लोकसभा में उनकी उपस्थिति करीब 52 प्रतिशत रही. इस दौरान उन्होंने 7 डिबेट में हिस्सा लिया. वहीं कार्यक्षेत्र के विकास के लिए उन्हें 22.50 करोड़ की राशि आवंटित की गई, जिसमें से उन्होंने 19.54 करोड़ खर्च कर दिए, जबकि बाकि की राशि बिना खर्च किए रह गई.