संविधान की बुनियाद को बचाने के लिए हम लड़ रहे हैं: सोनिया गांधी

जन सरोकार सम्मेलन में सोनिया गांधी ने कहा, 'कुछ साल पहले हम सोच भी नहीं सकते थे कि हमें ऐसे हालात में एकत्र होना पड़ेगा.

संविधान की बुनियाद को बचाने के लिए हम लड़ रहे हैं: सोनिया गांधी
यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने जन सरोकार सम्मेलन को संबोधित किया.

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha elections 2019) के दौरान शनिवार को विपक्षी पार्टियों के नेता दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में जुटे. यहां अपने संबोधन में यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सीधे-सीधे बीजेपी पर हमला किया. जन सरोकार सम्मेलन में सोनिया गांधी ने कहा, 'कुछ साल पहले हम सोच भी नहीं सकते थे कि हमें ऐसे हालात में एकत्र होना पड़ेगा. आज हमें देशभक्ति की नई परिभाषा सिखायी जा रही है. जाति-धर्म के आधार पर लोगों के बीच भेदभाव किया जा रहा है. हमसे उम्मीद की जा रही है कि खान-पान, पहनवा और अभिव्यक्ति की आजादी के मामले में कुछ लोगों की मनमानी को हम बर्दाश्त करें.'

यूपीए अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि मौजूदा सरकार लोगों की बेहतर जिंदगी बनानी की संभावना छिन रही है. हमें पूरे हिम्मत के साथ इसका विरोध करना होगा. भारत को ऐसी सरकार की जरूरत है. देश के सभी नागरिकों के प्रति जिम्मेदार हो. संविधान में जिस बुनियादी स्वतंत्रता लिखी गई है उसे फिर से स्थापित करना होगा. हमें उन संवैधानिक मुद्दों को फिर कायम करना होगा.

सोनिया गांधी ने कहा कि मुझे इसमें कोई संदेह नहीं है कि कांग्रेस की ओर से जो वायदे किए जा रहे हैं, उसको पूरा किया जाएगा और उसकी निगरानी करेंगे. हमने पहले भी करके दिखाया और आगे भी करके दिखाएंगे. आज के इस महत्वपूर्ण अवसर जवाहर लाल नेहरू की बात की याद आ रही है. उन्होंने कहा था कि भविष्य के निर्माण के लिए बिना थके काम करना होगा.

मालूम हो कि केंद्र सरकार की नीतियों और उसके कार्य प्रणाली के प्रति नाराजगी जाहिर करने के लिए शनिवार को विपक्षी पार्टियों ने देश के 200 गैर सरकारी संगठनों के साथ मिलकर महामंथन किया.