• 542/542 लक्ष्य 272
  • बीजेपी+

    354बीजेपी+

  • कांग्रेस+

    89कांग्रेस+

  • अन्य

    99अन्य

राहुल गांधी का वायनाड से चुनाव लड़ना तुष्टिकरण की राजनीति का संदेश है: पीएम मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि वह जानना चाहते हैं कि राहुल गांधी ने केरल में ही तिरुवनंतपुरम या पथनमथित्ता सीट से चुनाव क्यों नहीं लड़ा.

राहुल गांधी का वायनाड से चुनाव लड़ना तुष्टिकरण की राजनीति का संदेश है: पीएम मोदी
पीएम नरेंद्र मोदी (फोटो @BJP4India)

तिरुवनंतपुरम: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर चुनावी हमला करते हुए कहा कि उनका केरल में वायनाड से लोकसभा चुनाव लड़ना दक्षिण भारत को किसी तरह का संदेश देना नहीं बल्कि यह तुष्टिकरण की राजनीति का संदेश है.

राज्य में बीजेपी के उम्मीदवारों के समर्थन के लिए यहां एक रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि वह जानना चाहते हैं कि राहुल गांधी ने केरल में ही तिरुवनंतपुरम या पथनमथित्ता सीट से चुनाव क्यों नहीं लड़ा.

अमेठी के साथ-साथ वायनाड से भी चुनाव लड़ रहे हैं राहुल गांधी
राहुल गांधी उत्तर प्रदेश के अमेठी में अपनी पारंपरिक सीट के साथ-साथ वायनाड से भी लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं. इसके बारे में कांग्रेस का कहना है कि वह दक्षिण भारत के राज्यों को संदेश देना चाहते हैं कि उनके लिए वे भी उतने ही मूल्यवान हैं और उनका उतना ही सम्मान है.

पीएम मोदी ने आरोप लगाया, ‘कांग्रेस के नामदार का कहना है कि वह दक्षिण भारत को संदेश देने के लिए वायनाड आए हैं. क्या वह यह संदेश राज्य की राजधानी तिरुवनंतपुरम या पनथनमथित्ता से नहीं दे सकते थे. यहां से उनका संदेश और भी बड़ा हो जाता. यह दक्षिण भारत के लिए संदेश नहीं है बल्कि यह तुष्टिकरण की राजनीति का संदेश है.’

देश में ‘मजबूर पीएम’ चाहती है कांग्रेस: मोदी
इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार कर्नाटक की रैलियों में कांग्रेस पर निशाना साधा और दावा किया कि कांग्रेस देश में एक ‘मजबूर’प्रधानमंत्री बनवाना चाहती है. उन्होंने लोगों से केंद्र में राष्ट्रीय सुरक्षा पर जोर देने वाली मजबूत सरकार बनवाने की अपील भी की.

उत्तर कर्नाटक में दो रैलियों को संबोधित करते हुए मोदी ने राज्य में एच डी कुमारस्वामी की अगुवाई वाली कांग्रेस-जेडीएस सरकार के ‘कभी न खत्म होने वाले ड्रामा’ का मजाक उड़ाया. पीएम मोदी ने रैली में कहा, ‘...यदि आप मजबूत सरकार देखना चाहते हैं तो दिल्ली में देखें; यदि आप मजबूर सरकार देखना चाहते हैं तो कर्नाटक में देखें.’