close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नतीजों के बाद भोपाल के न्यू मार्केट पहुंचीं साध्वी प्रज्ञा, आईसक्रीम खाकर जीत को किया सेलिब्रेट

रिजल्ट आने के बाद भारी मतों से जीत हासिल करने के बाद साध्वी प्रज्ञा अपनी जीत का जश्न मनाने भोपाल के न्यू मार्केट पहुंचीं, जहां उन्होंने कार्यकर्ताओं संग आईसक्रीम खाकर अपनी जीत सेलिब्रेट की.

नतीजों के बाद भोपाल के न्यू मार्केट पहुंचीं साध्वी प्रज्ञा, आईसक्रीम खाकर जीत को किया सेलिब्रेट
साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को भोपाल में कुल 8,66,482 वोट मिले हैं.

नई दिल्लीः मध्य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट पर बीजेपी प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने बंपर वोटों के अंतर के साथ जीत दर्ज कराई है. उन्होंने कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह को 3,64,822 वोटों के अंतर से हराया है. कांग्रेस ने भले ही चुनाव के 2 महीने पहले उम्मीदवार की घोषणा कर दी थी और बीजेपी ने अंत में, लेकिन बावजूद इसके जनता ने बीजेपी को ही चुना. चुनाव के रिजल्ट आने से पहले मौन धारण करने वाली साध्वी प्रज्ञा ने रिजल्ट वाले दिन ही सीहोर के प्रसिद्ध चिंतामणी गणेश मंदिर पहुंचकर पूजा की और इसके बाद ही अपना मौन व्रत तोड़ा. वहीं रिजल्ट आने के बाद भारी मतों से जीत हासिल करने के बाद साध्वी प्रज्ञा अपनी जीत का जश्न मनाने भोपाल के न्यू मार्केट पहुंचीं, जहां उन्होंने आईसक्रीम खाकर अपनी जीत सेलिब्रेट की.

बता दें भोपाल में जब कांग्रेस ने दिग्जविजय सिंह को उतारा था, तभी से बीजेपी ने इस पर मंथन करना शुरू कर दिया था कि आखिर भोपाल में किसे उतारा जाए. जिसके बाद चुनावों के कुछ दिनों पहले ही भाजपा ने हिंदुत्व की छवि वाली साध्वी प्रज्ञा को भोपाल लोकसभा सीट से उम्मीदवार घोषित किया था. ऐसे में बीजेपी का गढ़ कही जाने वाली भोपाल लोकसभा सीट पर साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने जीत हासिल कर बीजेपी के गढ़ को ढहने से बचा लिया है. लोकसभा चुनाव 2019 में भाजपा की साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को 8,66,482 और दिग्विजय सिंह को 5,01,660 वोट मिले हैं. इस तरह से दोनों के बीच जीत का अंतर 3,64,822 रहा.

Lok Sabha Elections: मध्य प्रदेश में भाजपा की ऐतिहासिक जीत, 42 साल पुराना इतिहास दोहराया

बता दें भोपाल संसदीय सीट पर पिछले तीन दशकों से बीजेपी का ही कब्जा है. 1984 से लेकर अभी तक यहां बीजेपी ही जीतती आई है, जबकि वहीं 1984 से पहले यहां कांग्रेस का कब्जा हुआ करता था. अंतिम बार 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी के आलोक संजर ने भाजपा को जीत दिलाई थी. यहां साध्वी प्रज्ञा ने पहले राउंड से ही बढ़त बना रखी थी. पहले राउंड में साध्वी प्रज्ञा को 41595 और दिग्विजय सिंह को 22089 वोट मिले थे. जिसके बाद साध्वी लगातार दिग्विजय सिंह से आगे बनी रहीं.