close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

उद्धव ठाकरे ने कहा, 'बीजेपी-शिवसेना के बीच मतभेद थे लेकिन अब वे हल हो गए हैं'

उद्धव ठाकरे ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सराहना करते हुए कहा कि विपक्ष के पास कोई ऐसा चेहरा नहीं है जो उनकी बराबरी कर सके.

उद्धव ठाकरे ने कहा, 'बीजेपी-शिवसेना के बीच मतभेद थे लेकिन अब वे हल हो गए हैं'
बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के गांधीनगर लोकसभा सीट से नामांकन पत्र दाखिल करने से पहले एक रैली उद्धव ठाकरे, राजनाथ सिंह, रामविलास पासवान शामिल हुए. (फोटो साभार - PTI)

अहमदाबाद: शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने शनिवार को कहा कि बीजेपी और उनकी पार्टी के बीच मतभेद थे लेकिन अब वे हल हो गए हैं. उन्होंने यह भी कहा कि दोनों दलों के लक्ष्य एक हैं और उनकी विचारधार एवं दिल एक साथ जुड़े हैं. उद्धव ठाकरे ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सराहना करते हुए कहा कि विपक्ष के पास कोई ऐसा चेहरा नहीं है जो उनकी बराबरी कर सके.

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के गांधीनगर लोकसभा सीट से नामांकन पत्र दाखिल करने से पहले उन्होंने एक रैली को संबोधित करते हुए यह बात कही. उद्धव ठाकरे के अलावा, केन्द्रीय मंत्री राजनाथ सिंह , नितिन गडकरी, शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के प्रमुख प्रकाश सिंह बादल और लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के संस्थापक रामविलास पासवान भी मंच पर मौजूद थे.

'अमित शाह को शुभकामनाएं देने के लिए रैली में शामिल हुआ हूं'
उद्धव ठाकरे ने कहा कि वह यहां शाह को शुभकामनाएं देने के लिए रैली में शामिल हुए हैं. उन्होंने कहा, 'इस पर कई लोग सवाल करेंगे कि मैं यहां क्यों हूं...कई लोग खुश हैं कि मैं यहा हूं लेकिन कुछ लोगों को इससे तकलीफ जरूर होगी .' 

उन्होंने कहा, 'कई लोग इस बात की खुशी मना रहे थे कि एक जैसी विचारधारा वाली पार्टियां आपस में लड़ रही हैं. हमारे बीच कुछ मनमुटाव और मतभिन्नता थी. लेकिन जब अमित शाह मेरे घर आए और हमने बैठकर बातचीत की, सब हल हो गया.'  

'हमारी विचारधारा और दिल एक साथ बंधे हैं'
उद्धव ठाकरे ने कहा, 'हमारे समान लक्ष्य हैं. हमारी विचारधारा और दिल एक साथ बंधे हैं. हम एकसाथ इसलिए आए हैं क्योंकि ‘हिन्दुत्व’ ही है जो हमें बांधता है.' 

उद्धव ठाकरे ने कहा कि पिछले पांच वर्षो में बीजेपी और शिवसेना के बीच जो हुआ वह अब इतिहास है, लेकिन हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि इन पिछले पांच वर्ष से पहले भी हमारा 25 साल का इतिहास है. आज हमारी सोच एक है, हमारी विचारधारा एक है और हमारा नेता भी एक है.